BREAKING NEWS
latest
News
राज्य

राज्य

राज्य/block-5

आपके शहर की खबर

आपके शहर की खबर/block-3

राजनीति

राजनीति/block-6

मनोरंजन

मनोरंजन/block-6

धर्म

धर्म/block-3

"खेल"

खेल/block-3

"लेख"

लेख/block-3

ख़बरें जरा हटके

ख़बरें जरा हटके/block-10

स्टोरी

स्टोरी/block-7

Latest Articles

श्रीमद् विजय राजेंद्रसुरीश्वरजी म.सा. की 196 वी जन्म जयंती एवं 116 वी पुण्य तिथि निमिते पर्यावरण संरक्षण के लिए मेगा वृक्षारोपण, राजस्थान पत्रिका एवं गुरुदेव मेडिकल फाउंडेशन द्वारा पोस्टर का विमोचन श्री मोहनखेड़ा महातीर्थ (मध्यप्रदेश) में किया गया




   राजगढ़(धार)। आज शुक्रवार को विश्‍व पूज्य प्रात: स्मरणीय प्रभु श्रीमद् विजय राजेंद्रसुरीश्वरजी म.सा. की 196 वी जन्म जयंती एवं 116 वी पुण्य तिथि निमिते पर्यावरण संरक्षण के लिए मेगा वृक्षारोपण, राजस्थान पत्रिका एवं गुरुदेव मेडिकल फाउंडेशन द्वारा पोस्टर का विमोचन श्री मोहनखेड़ा महा तीर्थ (मध्यप्रदेश) में किया गया। श्री मान मेगराजजी भूतपूर्व सांसद, सुजानमलजी सेठ मोहनखेड़ा ट्रस्टी, मांगीलालजी रामाणी मोहनखेड़ा ट्रस्टी, अर्जुन मेहताजी, के सी जैन, फतेराज जैन, राहुल इनके हाथो विमोचन हुआ एवं मोहनखेड़ा महा तीर्थ परिसर मैं वृक्ष रोपे गए। यह अभियान करीबन एक महीने तक चलाया जाएगा। इस मौके पर गुरुदेव मेडिकल फाउंडेशन के संथापक फतेराज जैन ने कहा पेड़ पौधे ऑक्सीजन का उत्सर्जन करते हैं अगर हमें पर्याप्त ऑक्सीजन मिल जाए तो कई रोग ठीक हो सकते हैं।  प्राकृतिक आपदाओं को टालने, ज्यादा बरसात लाने, शुद्ध हवा और पानी की जरूरत को पूरा पेड़ों द्वारा होता है। पेड़ पौधो का भी अपना परिवार है। इनकी रक्षा करना हमारा दायित्व है, भोजन पानी के बिना हम कुछ दिन रह सकते हैं लेकिन ऑक्सीजन के बिना एक पल नहीं रह सकते आए दिन पेड़ कटने से बरसात का संतुलन गड़बड़ा रहा है क्योंकि बादल हमेशा पेड़ों से ही धरती की और आकर्षित होते हैं और बारिश करते हैं ऐसे में धरती पर पेड़ लगाना जरूरी है। हमारे देश में आयुर्वेदिक वेद इन पेड़ पौधों एवं जड़ी बूटियों से ही दवाइयां बनाकर इलाज करते थे जिससे उनका इलाज भी पेटेंट होता था और पैसा भी अधिक नहीं लगता था आज पेड़ कट जाने से आयुर्वेदिक इलाज भी अंधेरे के गर्त में जा रहा है। पेड़ हमें फल फूल शीतल छाया पेड़ मानव ही नहीं पशु - पक्षियों के रहने का मुख्य ठिकाना है। लेकिन वर्तमान में लोग भौतिकता की चकाचौंध में अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए पेड़ो को काटते जा रहे हैं इसके परिणाम स्वरूप हमें प्राकृतिक आपदाओं का सामना भी करना पड़ रहा है पहले के समय में पक्षियों के आवाज से किसी भी अनहोनी (आपदा) का पता चल जाता था लेकिनअब जैसे-जैसे पेड़ कट रहे हैं तो पक्षियों की संख्या में भी कमी होने लगी है हमें प्रकृति के साथ खिलवाड़ करना बंद करना होगा वरना हालात भयानक होते देर नहीं लगेगी हम प्रकृति का सम्मान करना सीखें नहीं तो भविष्य सुरक्षित नहीं रह पाएगा। आए दिन वाहनों की संख्या बढ़ रही है इनसे निकलने वाली कार्बनडाइ ऑक्साइड को ग्रहण करने के लिए पेड़ अनिवारिय है। कई ऐसी कंपनियों से निकलने वाला रसायन मिश्रित पानी भूमि में जाकर पेड़ों की जड़ों को बाधित करता है इससे पेड़ों का विस्तार घटता है इसलिए  इनके अलग से सेफ्टी टैंक बनाए जाए और पेड़ों को हानी न पहुंचाए क्योंकि वृक्ष पत्थर मारने वालों को भी फल तथा शीतल छाया बराबर देते है। गर्मी से सुलजती काया को शीतलता देते हैं। इसके बावजूद लोग इस और ध्यान देना भूल रहे हैं, आओ हम सब मिलकर ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाए और अपना दायित्व निभाए।

पीआर जगत में नए लोगो (LOGO) के साथ नई ऊर्जा,तकनीक और अधिक आत्मविश्वास का प्रणेता बनकर उभरा पीआर 24x7



   इंदौर : भारत में पब्लिक रिलेशन सेक्टर में सबसे तेजी से प्रगति करने वाली संस्थाओं में से एक पीआर 24x7, 3 दिसंबर को अपने फाउंडेशन डे के मौके पर, देश की 'सर्वश्रेष्ठ रीजनल पीआर एजेंसी' के रूप में अपने नए लोगो (Logo) एवं नव शृंगारित ऑफिस का अनावरण किया। नया लोगो, कंपनी की नई ऊर्जा, तकनीक और दशकों से जारी क्वालिटी सर्विसेस को, अधिक आत्मविश्वास से बढ़ते हुए दर्शाता है। रिब्रांडिंग के साथ, संस्था ने दक्षिण और पूर्वोत्तर भारत में अपना कार्यक्षेत्र बढ़ाने की घोषणा भी की है। वहीं संस्था अब ट्रेडिशनल पीआर के साथ-साथ, इन्फ्लुएंसर, डिजिटल, सोशल मीडिया सर्विसेज़, कंटेंट क्रिएशन व वीडियो मेकिंग/एडिटिंग जैसे सेक्टर्स में भी सेवाओं का विस्तार कर रही है।


   मीडिया मॉनिटरिंग और क्राइसिस मैनेजमेंट के क्षेत्र में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के लिए तीन बार प्रतिष्ठित क्वालिटी मार्क अवार्ड से सम्मानित पीआर 24x7, अपने नए स्वरुप में 20 वर्षों से अधिक के अनुभव को प्रदर्शित करता है। रिमोट इलाकों और छोटे शहरों में अपनी सक्रियता व उपस्थिति को मजबूत करते हुए, संस्था ने विभिन्न राज्यों के दिग्गज पीआर प्रोफेशनल्स व रीजनल संस्थाओं को भी साथ लाने की पहल की है।  


   इस अवसर पर संगठन की वाईस प्रेसीडेन्ट  (क्लाइंट सर्विसेस) परिणिता नागरकर ने कहा, "समय के साथ खुद को, अपने कार्यक्षेत्र को और आस-पास के वातावरण को अपग्रेड करते रहना, हमारी प्रोडक्टिविटी को और अधिक निखारता है। इसी दृष्टिकोण के साथ हम क्लाइंट सर्विसिंग के क्षेत्र में कुछ नई सेवाओं का आधिकारिक ऐलान कर रहे हैं, जो सीधे तौर पर प्रोग्रेसिव क्लाइंट्स के लिए लाभदायक साबित होंगी।"


   हफ्ते के सातों दिन चौबीस घंटे एक्टिव रहने और क्लाइंट के लिए हर कार्य कुछ प्रोडक्टिव करने की प्रथा को जारी रखने की बात कहते हुए, सीनियर मैनेजर पीआर (मुंबई) संसृति मिश्रा ने कहा कि, "इतने सालों में, समय के साथ हमने बहुत सी चीजें सीखीं हैं और काम से लेकर लगभग हर क्षेत्र में बहुत से बदलावों को स्वीकार किया है। क्लाइंट के अनुरूप, जैसी आवश्यकता लगी, हम उपलब्ध रहे। अब नए लोगो और नई सेवाओं के साथ, हमारा सन्देश इंडस्ट्री में लम्बा समय गुजारने के बाद भी, नई चीज़ों को सीखने और उसमें बेहतरी की संभावनाएं तलाशते रहने के प्रति तत्परता को दर्शाता है।"


  पीआर 24x7, सीएसआर गतिविधियों के माध्यम से शिक्षा, स्वास्थ्य देखभाल और महिला सशक्तिकरण की दिशा में महत्वपूर्ण कदम उठा रहा है। जबकि रीजनल पीआर में अग्रणी होते हुए, संस्था ने ब्यूटी-फैशन, कंज्यूमर ब्रांड, एंटरटेनमेंट, खाद्य और पेय, स्वास्थ्य व कल्याण, टेक्नोलॉजी, गैर-लाभकारी, कॉर्पोरेट कम्युनिकेशन्स और रेप्युटेशन मैनेजमेंट जैसे क्षेत्रों में, उपभोक्ताओं के लिए सेवाओं को आसान बनाया है। मीडिया मॉनिटरिंग एजेंसी के रूप में भी दशकों से सक्रिय संस्था, रोजाना 1500 से अधिक कीवर्ड्स पर देश-विदेश के 650 से ज्यादा समाचार पत्रों व 50 से अधिक पत्रिकाओं को ट्रैक करने के रिकॉर्ड को कायम रखने में भी सर्वश्रेष्ठ रही है।


पीआर 24x7 के बारे में:


   भारत के मध्य प्रदेश के इंदौर में स्थित पीआर 24×7, अग्रणी पीआर एजेंसियों में से एक है, जिसका सफल पीआर ब्रीफ देने का ट्रैक रिकॉर्ड है। अत्यधिक अनुभवी पीआर प्रोफेशनल की अपनी टीम के साथ, पीआर 24×7, ब्रांड्स कम्युनिकेशन इंडस्ट्री, मीडिया रिलेशन्स, और क्रिएटिव स्ट्रेटेजिक प्लानिंग के क्षेत्र में अपने अनुभव के साथ, उनकी प्रतिष्ठा को बेहतर बनाने में मदद करता है। वर्तमान में, संगठन में एक विशाल ग्राहक शृंखला और लगभग 75+ प्रोफेशनल की एक जोशीली और अनुभवी टीम शामिल है। पीआर 24×7 रचनात्मक और सफल विचारों व कठिन प्रयासों के साथ, ब्रांडों पर वास्तविक समय में प्रभाव डालने पर ध्यान केंद्रित करता है।

   संस्था का देशभर में नेटवर्क और टीम (68+ शहर और 18+ राज्य) का एक विशाल नेटवर्क मौजूद है। क्षेत्रीय बाजार में स्थित होने के कारण, विशेष रूप से टियर 2 और टियर 3 शहरों में, पीआर 24x7 का एक मजबूत नेटवर्क और मीडिया की गहरी समझ है। क्षेत्रीय मीडिया का एक आंतरिक ज्ञान होने के कारण, पीआर 24×7 टीम को ब्रांड की कहानियों को ढालने और साथ ही, उन्हें क्षेत्रीय समुदायों से जोड़ने, क्षेत्रीय बाजारों को उजागर करने में विशेषज्ञता प्राप्त है। साथ ही, टीम अपने ग्राहकों के लिए 24x7 उपलब्ध है, जिसका अर्थ है कि ग्राहक तत्काल समय में टीम तक आसानी से पहुंच सकते हैं। इसके अलावा, पीआर 24×7 भारत के सबसे बड़े मीडिया मॉनिटरिंग नेटवर्क में से एक है। वे साल में 24×7 और 365 दिन काम करते हैं और समय पर डिलीवरी का ट्रैक रिकॉर्ड रखते हैं।

सर्चबॉक्स डिजिटल एजेंसी: सर्वश्रेष्ठ डिजिटल मार्केटिंग कंपनी।

 

सर्चबॉक्स डिजिटल एजेंसी: सर्वश्रेष्ठ डिजिटल मार्केटिंग कंपनी।


  स्टोरी :  डिजिटल मार्केटिंग प्रोफेशनल अतुल तिवारी ने उद्योग में 5+ साल बिताने और कई व्यवसायों और स्टार्टअप्स को उनकी बिक्री और मार्केटिंग रणनीति में मदद करने के बाद सर्चबॉक्स डिजिटल एजेंसी एलएलपी की स्थापना की। सर्चबॉक्स डिजिटल मुंबई में स्थित है, जो उद्योगों में कई ब्रांडों की मदद करता है। उन्होंने अपना बीसीए पूरा किया और बाद में मुंबई के एक प्रतिष्ठित कॉलेज से एमबीए किया। आईआईएम इंदौर से रणनीतिक बिक्री प्रबंधन में कार्यकारी कार्यक्रम पूरा करके वह आईआईएम के पूर्व छात्र बन गए। उनके पास डिप्लोमा पाठ्यक्रमों में कई प्रमाणपत्र भी हैं।


  विशेषज्ञों की एक टीम के साथ, मुंबई में सर्चबॉक्स डिजिटल, डिजिटल मार्केटिंग सर्विसेज एजेंसी, प्रभावी डिजिटल मार्केटिंग रणनीतियों के माध्यम से व्यवसाय के विकास और इसे स्केलेबल बनाने में मदद करने के लिए मौजूद है। इसमें अनुभवी डिजिटल विपणक, डेवलपर्स और डिजाइनरों की एक टीम है। सर्चबॉक्स डिजिटल एजेंसी एलएलपी का मुख्यालय मुंबई में है और इसकी उपस्थिति दिल्ली और न्यूयॉर्क, यूएसए में है।


   सर्चबॉक्स डिजिटल एजेंसी एलएलपी अपने ग्राहकों को उनकी बिक्री की मात्रा, मुनाफा बढ़ाकर और उनकी कंपनी को तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी बनाकर बढ़ने में मदद करने के मिशन पर है। उनका इनाम उनके ग्राहकों की पूर्ण संतुष्टि है।

  यह कंपनी डिजिटल ब्रांडिंग की सभी जरूरतों के लिए एक कदम समाधान है। किसी को बस एक विचार के साथ उनसे संपर्क करना होता है, सर्चबॉक्स कुछ ही समय में उनके विचार को वास्तविकता में बदल देगा।


डिजिटल मार्केटिंग क्यों?

  श्री अतुल जानते थे कि बाजार में कई कंपनियां हैं और वे इसका सामना करने के लिए तैयार थे। प्रमुख चुनौती मूल्य निर्धारण था। उनका झुकाव गुणवत्ता और नई तकनीक की ओर अधिक था। उसके लिए उन्होंने गहन शोध किया, एक अलग रणनीति के साथ आए। वह रोज एक जैसा काम नहीं करना चाहता था। वह कुछ चुनौतीपूर्ण चाहता था। ग्राहकों के साथ नियमित रूप से बातचीत करना और उनके ब्रांड मार्केटिंग में उनकी मदद करना उन्हें प्रेरित करता है। प्रत्येक व्यवसाय के स्वामी के लक्षित दर्शक होते हैं।


   सर्चबॉक्स डिजिटल एजेंसी एलएलपी ने केवल सबसे प्रशिक्षित पेशेवरों को काम पर रखा है। वे वर्तमान में 10 सबसे अधिक पेशेवर कर्मचारियों की ताकत के साथ काम कर रहे हैं।

 सर्चबॉक्स डिजिटल एजेंसी एलएलपी द्वारा प्रदान की जाने वाली सेवाएं:

- यूआई यूएक्स डिजाइन

- वेबसाइट निर्माणकार्य

- बी2बी लीड जनरेशन

- डिजिटल विपणन

- ईकामर्स विकास

- तकनीकी सहायता


  वर्तमान में,सर्चबॉक्स कई ग्राहकों का प्रबंधन कर रहा है जो बाजार में बड़े खिलाड़ी हैं और अतुल और उनकी टीम की डिजिटल मार्केटिंग रणनीतियों से लाभान्वित हुए हैं।

पी सी आई इंडिया का भविष्योन्मुख रूपांतरण



  कोविड महामारी के बाद दुनिया में हो रहे बदलावों को ध्यान में रखते हुए, सामाजिक विकास के क्षेत्र की एक अग्रणी संस्था के रूप में, पीसीआई इंडिया ने साहसी कदम उठाते हुए एक नवीन परिकल्पना और ब्रांड का अनावरण किया।


  नई दिल्ली, दिल्ली, भारत : प्रोजैक्ट कंसर्न इंटरनेशनल (पीसीआई) इंडिया, एक गैर सरकारी संस्था जो 1998 से भारत में वंचित समुदायों के साथ काम कर रही है, ने आज एक साहसिक नयी परिकल्पना, मिशन, मूल्यों और प्रतीक चिन्ह का अनावरण करके अपने ब्रांड रूपांतरण की घोषणा की। पीसीआई इंडिया 2023 में 25 साल पूरा करने जा रही है और यह रूपांतरण इसके संगठनात्मक बदलाव का एक हिस्सा है। 

 सभी के लिए एक सुखी, स्वस्थ, सुरक्षित और चिरस्थायी विश्व - यह है पी सी आई इंडिया की नवीन कल्पना

  पीसीआई इंडिया पिछले कई दशकों से समुदाय के साथ जुडकर, ठोस प्रमाणों पर आधारित कार्यक्रमों का नियोजन और संचालन करने वाली संस्था के रूप में उभरी है। यह संस्था समुदायों के जीवन में व्यापक पैमाने पर सकारात्मक बदलाव लाने के लिए, सरकारों, निजी क्षेत्र और विकास संगठनों के साथ मिलकर काम कर रही है, जिससे जटिल सामाजिक मुद्दों को हल किया जा सके। पीसीआई इंडिया को केन्द्रीय और राज्य सरकारों को उत्कृष्ट तकनीकी सहयोग प्रदान करने के लिए भी जाना जाने लगा है।

 'रीइमेजिनिंग पीसीआई इंडिया' की व्याख्या करते हुए, इंद्रजीत चौधरी, सीईओ और कंट्री डाइरेक्टर, पीसीआई इंडिया ने कहा कि, "रूपांतरण की प्रक्रिया में, हमने पीसीआई इंडिया को एक भविष्योन्मुखी संस्था के रूप में देखा, जो, महामारी के बाद तेजी से बदलती दुनिया के अनुरूप अपनी संरचना, प्रणालियों और लोकाचार को बदल सकती है।"

  पीसीआई इंडिया की नई परिकल्पना, मिशन, और मूल्य इसकी समृद्ध विरासत पर आधारित हैं, जो इसे अपने काम के पैमाने और प्रभाव को बढाने की महत्वाकांक्षा पूर्ण करने के लिए सक्षम बनाते हैं। ये पीसीआई इंडिया को हरेक स्तर पर सरकारों का साथ देने के लिए अपनी अद्वितीय तकनीकी क्षमताओं की पुनर्कल्पना और विस्तार करने में भी मदद करेंगे।

  पीसीआई इंडिया अपने नए विजन "सभी के लिए एक सुखी, स्वस्थ, सुरक्षित और चिरस्थायी विश्व" को वास्तविकता में लाने की इच्छा रखती है। अपने मिशन को नया रूप देते हुए "हम सामुदायिक वास्तविकताओं में निहित जटिल विकास समस्याओं के स्थायी समाधानों का सह-निर्माण और विस्तार करेंगे।" इसके अलावा, पीसीआई ने अपने मूल्यों को ‘उत्कृष्टता’, ‘निर्भीकता’, ‘सहयोग’, ‘अखंडता’, ‘रचनात्मकता’ और ‘सम्मान’ को अपने मूल्यों के रूप में परिभाषित किया है।

  नया ब्रांड और प्रतीक चिन्ह, पीसीआई इंडिया की उत्कृष्टता और व्यापक प्रभाव डालने की क्षमता को दर्शाता है। पीसीआई का नया प्रतीक चिन्ह अनंत को दर्शाता है ('पी' और 'सी' अक्षर एक लूप में जुडे है), जो जटिल सामाजिक मुद्दों को सुलझाने की अंतहीन संभावनाओं का उदाहरण है। अक्षर 'I' के ऊपर जलती हुई मशाल ज्ञान को दर्शाती है और पीसीआई इंडिया की नए सिरे से महत्वाकांक्षा को रेखांकित करती है कि वह विकास के विभिन्न क्षेत्रों में एक विचारशील नेतृत्व प्रदान करे।

  नए प्रतीक चिन्ह में इस्तेमाल किया गया ठोस बोल्ड फोंट इसके साहस और जटिल सामाजिक समस्याओं से निपटने के संकल्प का प्रतीक है, जबकि अंग्रेजी के छोटे अक्षर का उपयोग विनम्रता और सम्मान का प्रतीक है - जोकि पीसीआई इंडिया के मूल्यों के दो अभिन्न पहलू हैं।

  श्री चौधरी ने कहा, "रूपान्तरित पीसीआई इंडिया भविष्य के लिए तैयार होगा, जिससे हमें लाखों लोगों तक पहुंचने और अधिक प्रभावी ढंग से सकारात्मक परिवर्तन लाने में मदद मिलेगी।"

पीसीआई इंडिया के बारे में

  पीसीआई इंडिया एक गैर-लाभकारी संगठन है, जो 1998 से भारत में कार्यरत है। इसके कार्यक्रमों को हाशिए पर रहने वाले वंचित समुदायों के जीवन को एक सकारात्मक स्थायी तरीके से बदलने के लिए निर्मित किया गया है। ये वर्तमान में 14 राज्यों में 22 कार्यक्रमों के माध्यम से 1.5 करोड़ से अधिक लोगों तक पहुंच बना चुका है।

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें: www.pciglobal.in



(यह खबर आपको न्यूजवॉयर कि ओर से प्रेषित की जा रही है। टाइम्स आॅफ मालवा पर इसके लिये उत्तरदायित्व नहीं है।)

राज्य सरकार का पेंशनरों के हित में बड़ा फैसला,6वें वेतनमान में 12 और 7वें वेतनमान में 5 प्रतिशत की वृद्धि,मंहगाई राहत 6वें वेतनमान में 201 प्रतिशत और 7वें वेतनमान में 33 प्रतिशत हुई

 

  

   राज्य शासन ने पेंशनरों के हित में बड़ा फैसला लेते हुए पेंशनरों और परिवार पेंशनरों को 6वें और 7वें वेतनमान पर एक अक्टूबर 2022 से पेंशन पर मंहगाई राहत की दर में वृद्धि कर दी है। बढ़ी हुई राशि नवम्बर 2022 से देय होगी।

  छटवें वेतनमान में 12 प्रतिशत की वृद्धि के बाद महंगाई राहत की दर अब 201 प्रतिशत हो गई है। सातवें वेतनमान में 5 प्रतिशत की वृद्धि से मंहगाई राहत दर 33 प्रतिशत हो गई है। आज वित्त विभाग ने इस आशय के आदेश जारी कर दिये हैं।

 आदेश जारी होने के पहले 6वें वेतनमान में मूल पेंशन एवं परिवार पेंशन पर 189 प्रतिशत की दर एवं 7वें वेतनमान में 28 प्रतिशत की दर से मंहगाई राहत मिल रही थी। आदेश के अनुसार 80 वर्ष या उससे अधिक की आयु के पेंशनरों को देय अतिरिक्त पेंशन पर भी महंगाई राहत देय होगी।

  महंगाई राहत अधिवार्षिकी, सेवानिवृत्त, असमर्थता तथा क्षतिपूर्ति पेंशन पर भी देय होगी। सेवा से पदच्युत या सेवा से हटाए गए कर्मचारियों को स्वीकार किए गए अनुकंपा भत्ता पर भी महंगाई राहत की पात्रता होगी तथा परिवार पेंशन तथा असाधारण पेंशन प्राप्त करने वाले पेंशनरों को भी महंगाई राहत वित्त विभाग के आदेश अनुसार देय होगी।

  यदि किसी व्यक्ति को उसके पति/पत्नी की मृत्यु के कारण अनुकंपा के आधार पर सेवा में रखा गया है, तो ऐसे मामलों में परिवार पेंशन पर महंगाई राहत की पात्रता नहीं होगी। यदि पति/पत्नी की मृत्यु के समय वह सेवा में हैं तो पति-पत्नी की मृत्यु के कारण देय परिवार पेंशन पर उसे महंगाई राहत की पात्रता होगी। ऐसे पेंशनरों, जिन्होंने अपनी पेंशन का एक भाग सारांशीकृत कराया है उन्हें महंगाई राहत उनकी मूल पेंशन पर देय होगी।

  यह आदेश राज्य शासन के ऐसे सेवानिवृत्त कर्मचारियों पर भी लागू होंगे, जिन्होंने उपक्रमो, स्वशासी संस्थान, मंडल, निगम आदि में संविलियन पर एकमुश्त राशि आहरित की है और जो पेंशन के एक तिहाई हिस्से के प्रत्यावर्तन के पात्र हो गए हैं।

  संचालक पेंशन को बैंक की शाखाओं में नमूना जाँच करने तथा विसंगति की स्थिति में उसका समायोजन आगामी माह के भुगतानों में करने के निर्देश दिये गये हैं। सभी पेंशन संवितरणकर्ता अधिकारियों को निर्देशित किया गया है कि वे मध्यप्रदेश कोषालय संहिता 2020 के प्रावधानों को ध्यान में रखते हुए पेंशनरों को स्वीकृत मंहगाई राहत का भुगतान सुनिश्चित करें।

PFC Film के डायरेक्टर प्रमोद गुप्ता को बॉलीवुड अभिनेत्री अमीषा पटेल जी ने ( बेस्ट प्रोडक्शन हाउस ऑफ द ईयर ) का मुंबई में अवार्ड देकर सम्मानित किया

PFC-film-director-pramod-gupta-ko-Bollywood-actress-ameesha-patel-ne-best-production-house-of-the-year-ka-mumbai-me-award-deker-sammanit-kiya


  पी एफ सी फिल्म के डायरेक्टर (Director Of PFC Film) प्रमोद गुप्ता जी (Pramod Gupta) को बॉलीवुड अभिनेत्री अमीषा पटेल जी ने  ( बेस्ट प्रोडक्शन हाउस ऑफ द ईयर ) का मुंबई में अवार्ड देकर सम्मानित किया !

 डायरेक्टर प्रमोद गुप्ता जी किसी नाम के मोहताज  नही है जो कम समय में कानपुर से मुंबई तक का सफर तय किया उत्तर प्रदेश के लिए ये जीता जागता उदाहरण हैं.अपनी शिक्षा करते हुऐ इन्होंने भारतीय सेना में जाने का निर्णय लिया ,लेकिन किस्मत को कुछ और मंजूर था कुछ कारणों के वजह भारतीय सेना में नही जा सके और किस्मत ने कब करवट ली और ये चले गए सपनो की माया नगरी मुंबई! प्रमोद गुप्ता जी सपनो की नगरी में जाकर अपने सपनों को पूरा करने की कोशिश किया और कुछ समय में अमूल म्यूजिक का महा मुकाबला, सारे गा मा पा , भारत की शान, छोटे उस्ताद,आदि बतौर कैमरामैन काम किया ,कई हिन्दी फिल्म किया, बन गए मासूम अपराधी, जीवन की एक भूल, हिन्दी फिचर फिल्म मंजर ,कुछ सालो बाद अपने शहर कानपुर वापस आए और उन्हों ने देखा की कानपुर में कला की कमी नही है.

  कई ऐसे कलाकार है जिनको सही मार्ग दर्शन नहीं मिला या कहा जाएं की उनको अपनी प्रतिभा को दिखाने का सही मंच नई मिला तभी डायरेक्टर प्रमोद गुप्ता जी ने निर्णय लिया के हर कलाकार को मंच प्रदान करेंगे जिसमें कोई भी कलाकर अपनी प्रतिभा को दिखा सके और आगे बढ़ सके और सपनों को पूरा कर सके!
  डॉयरेक्टर,कैमरामैन प्रमोद गुप्ता जी ने उत्तर प्रदेश का पहला रियलिटी टी.वी शो ( धमाल इंडिया डांस ) जो ईश्वर चैनल पर कई एपिसोड प्रसारित हो चूके है.

  प्रमोद गुप्ता जी को रियलिटी टी वी शो के जन्मदाता भी कह सकते हैं और प्रमोद जी ने कई कलाकारों को हिंदी फीचर फिल्म,और शॉर्ट फिल्मों में काम दिया ! शॉर्ट फिल्म चाक, सफर ,जजमेंट ,अयान-2 , मेरी पढ़ाई मेरा अभीमान, चरित्रहीन,रक्षक ,लव जिहाद आदि फिल्मों में काम दिया और कई शॉट फिल्म ओ टी टी प्लेटफार्म एमएक्स प्लेयर और हंगामा मे रिलीज हो चुकी है और इन फिल्मों को कई सारे मुंबई, खजुराहो, गोवा  इंटरनेशनल अवार्ड  भी मिले.. और कई कलाकारों को मंच दिया जो आज भी मुंबई में कई फिल्में कर रहे है!

राजगढ़ : नगर परिषद ने 10 स्वच्छता चेंपियन का स्वागत कर प्रमाण पत्र प्रदान किये



 राजगढ़ (धार)। नगर परिषद् राजगढ़ द्वारा बुधवार को शासन निर्देशनुसार व मुख्य नगर पालिका अधिकारी देवबाला पिप्लोनिया के निर्देश अनुसार राजगढ़ नगर के 10 स्वच्छता चेंपियनो का स्वागत कर प्रमाण पत्र प्रदान किये गए स्वच्छता की गतिविधियों में स्वच्छता ब्रांड ऍमबेस्टर सुशिल कुमार जैन द्वारा मानस कार्वेंट स्कूल में अनेको  गतिविधिया कराई जाती है साथ ही साथ उनके द्वारा नगर के वार्डो में भ्रमण कर रहवासियों को गिला सूखा कचरा अलग अलग करने पॉलिथीन का उपयोग नहीं करने अपने घरो से निकलने वाले कचरे का अपने घर पर ही कम्पोस्ट करने हेतु प्रेरित करने हेतु कार्य किये जाते है साथ ही राहुल व्यास द्वारा स्कूल के बच्चो से स्वच्छता सम्बंधि गतिविधि में मिट्टी के बीज गणेश (जिसमे पीओपी की प्रीतिमा का उपयोग ना हो ) जैसी कई गतिविधिया संचालित कर निकाय का सहयोग किया जाता सोहन पटेल 2021 ब्रांड एम्बेसडर ,किरण गहलोत,कविता   गहलोत,हिम्मत चौहान व वार्ड न 4 की महिला निर्मला खराड़ी,ममता शर्मा व लीला वसुनिया द्वारा भी वार्ड में गिला व सूखा कचरा अलग अलग करने हेतु रहवासियों को बताया जाता हे की कचरा अलग कर कर दे ।

  नगर परिषद् राजगढ़ द्वारा स्वछ वार्ड रेंकिंग कराइ गई जिसमे वार्ड न.04 सबसे स्वच्छ वार्ड पाया गया व वार्ड न.04 के रहवासियों द्वारा अपने ही घरो पर मटकों आदि में कम्पोस्ट खाद बनाया जाता हे निकाय के वाहन द्वारा वार्ड न.04 से सिर्फ घरेलु हानिकारक अपशिष्ट ही निकाय के कचरा वाहन में दिया जाता है, निकाय द्वारा वार्ड न.04 को आत्मनिर्भर वार्ड घोषित किया गया।

  निकाय द्वारा होटल ,रेस्टोरेंट, रहवासी संघ ,स्वच्छ कार्यालय ,स्वच्छ स्कुलो की रेंकिंग भी कराई गई है,जिसके परिणाम किसी कारण वश अभी घोषित नहीं किये जल्द ही निकाय द्वारा परिणाम घोषित कर सम्मानित किये जायेगे ।

   सुशिल कुमार जैन के द्वारा  टेक्नोलॉजी के अंतर्गत भी भाग लेकर उनके द्वारा घर से निकलने वाले वेस्ट से बेस्ट बनाए जाने हेतु एक प्रोजेक्ट तेयार कर निकाय को दिया गया जिसमे घरो से निकलने वाली खाली बोटल में पौधे व उसे सजावट किये जाने हेतु बताया गया हे साथ ही उनके द्वारा एक पर्यावरण से सम्बंधित प्रोजेक्ट तेयार किया गया ! स्वच्छता चैंपियन सम्मान के दोरान नगर परिषद् के लेखा पाल  सुरेन्द्र सिंह पवार ,स्वच्छता नोडल अधिकारी आराधना डामोर,अर्जुन चोयल,देवेन्द्र मालवीय,तिलक परिहार आदि कर्मचारी मोजूद रहे ।