BREAKING NEWS
latest
News
राज्य

राष्ट्रीय-खबरें-राज्य-

News/block-7

राज्य

राज्य/block-5

आपके शहर की खबर

आपके शहर की खबर/block-3

राजनीति

राजनीति/block-6

मनोरंजन

मनोरंजन/block-6

धर्म

धर्म/block-3

"खेल"

खेल/block-3

"लेख"

लेख/block-3

ख़बरें जरा हटके

ख़बरें जरा हटके/block-10

Latest Articles

सीएमओ पंवार की सक्रियता व लोगो की मदद से गौमाता को निकाला चेंबर से सुरक्षित बाहर....



 
राजगढ़(धार)। आज राजगढ़ के किले मैदान कालोनी के सीवरेज चेंबर में बाबू भाई हम्माल की गौ माता गिर कर फंस गई।  जिसकी जानकारी पूर्व पार्षद निलेश सोनी को लगते ही मौके पर जाकर सीएमओ सुरेंद्र सिंह पंवार को अवगत कराया जिन्होंने तत्काल जेसीबी उपलब्ध करवाई। पांच मिनिट में जेसीबी ड्राइवर की सूझबूझ व लोगो की मदद से गौमाता को सुरक्षित बाहर निकाला गया। पूर्व पार्षद नीलेश सोनी व लोगों ने सीएमओ पंवार की सक्रियता के लिए आभार व्यक्त किया।

21 वर्षीय वैभव पल्हाड़े (Vaibhav Palhade) ने लॉकडाउन के दौरान लेखक के रूप में किया डेब्यू....



 प्यार दुनिया का सबसे शुद्ध एहसास है। यह शाश्वत है, एकात्मक है, सशक्त है। लेकिन जब प्यार आपकी सबसे बड़ी कमजोरी में बदल जाता है तो क्या इसके लिए इंतजार करना उचित है? जब प्यार आपसे बहुत दूर, आपका न हो, तो क्या आप अब भी ‘प्यार’ से प्यार करेंगे?

  महाराष्ट्र का 21 साल का वैभव पल्हाडे (Vaibhav Palhade) की नई किताब "साजन रे: अ लाइफ-लॉन्ग जर्नी ऑफ फाइंडिंग हर" एक ऐसी ही कहानी पर आधारित है। इस युवा, प्रतिभाशाली व्यक्ति ने हाल ही में इस किताब के माध्यम से लेखन जगत में एक लेखक के रूप में अपनी शुरुआत की। महामारी लॉकडाउन के दौरान उन्होंने इस पुस्तक को लिखा और इसे प्रतिष्ठित ब्रांड खिताब के साथ प्रकाशित किया। यह पुस्तक वैश्विक स्तर पर लॉन्च की गई थी, जो डिजिटल के साथ-साथ दुनिया भर में पेपर बैक प्रारूप के पाठकों के लिए उपलब्ध है। इसका अंग्रेजी और हिंदी के अलावा कुछ अन्य भाषाओं में भी अनुवाद किया गया है।

  गौरतलब है कि जब अधिकांश लोग कुछ उत्पादक करने के लिए संघर्ष कर रहे थे, तब यह 21 वर्षीय व्यक्ति न केवल एक उपन्यास लिखने में सफल रहा, बल्कि इसे प्रकाशित भी किया और इसे लोगों के लिए उपलब्ध कराया। उनके समर्पण, दृढ़ता और प्रतिभा ने इस उपन्यास के निर्माण में सहायता की।

  यह किताब सभी रोमांस प्रेमियों के लिए काफ़ी मनमोहक है। इसमें पूरी तरह से प्यार के सार को संकुचित कर व्याख्या किया गया है। जैसा कि कवर से पता चलता है, यह पुस्तक सूक्ष्म भावनाओं के साथ भरी हुई है। टैगलाइन "ए लाइफ-लॉन्ग जर्नी ऑफ फाइंडिंग हेर" भी इस पुस्तक के बारे में काफी कुछ बोलती है। कथानक एक ऐसे व्यक्ति के बारे में है जो अपने खोए हुए प्यार को पाने की कोशिश में है। यह प्यार को खोजने के नायक और उसकी यात्रा के बारे में बहुत सारे सवाल उठाता है- बस इंतजार है इस किताब को पढ़ कर सारी बातें जाने।

 21 वर्षीय वैभव पल्हाड़े कोई सामान्य व्यक्ति नहीं है। इस छोटी उम्र में भी उनके प्रयास अंतहीन हैं। वह मराठी फिल्म उद्योग में एक प्रसिद्ध फिल्म निर्माता हैं। उन्होंने 14 साल की उम्र से फिल्म जगत के साथ मिलकर काम किया है और अपने करियर के मद्देनजर कई लघु फिल्में बनाई हैं। कलमकारी के लिए अपने नए प्यार के साथ, वह लेखन उद्योग को जीतने के लिए भी तैयार है।
 
 अपने पहले ही चर्चित उपन्यास के विमोचन के तुरंत बाद, वैभव अपनी दूसरी पुस्तक 'हिडेन हैंड' के साथ भी तैयार हैं। यह किताब रोमांस की एक क्लासिक कहानी है, लेकिन एक नाखून काटने वाले मोड़ के साथ। अपने कौशल और त्रुटिहीन प्रतिभा के साथ, यह युवा हर बार कुछ नया करने के साथ अपने समर्थकों को आश्चर्यचकित करने में विफल नहीं होता है।


MP: आपदा नियंत्रण केन्द्र चौबीस घंटे सक्रिय रहें

अतिवर्षा से जलभराव क्षेत्रों से प्रभावित लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाएं,जिला आपदा प्रबंधन समिति की बैठकें कर व्यवस्थाएं सुनिश्चित हों,मुख्यमंत्री श्री चौहान ने उच्चस्तरीय बैठक में दिए निर्देश....
MP NEWS: मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज उच्चस्तरीय बैठक में प्रदेश में अतिवर्षा की स्थिति की समीक्षा कर आमजन को जलभराव की स्थिति से बचाने और आवश्यक राहत के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जिला मुख्यालय स्थित आपदा नियंत्रण केन्द्र को 24 घंटे सक्रिय रखा जाए। जिला आपदा प्रबंधन समिति की बैठक तत्काल की जाए और अतिवर्षा के एवं राहत के प्रयासों की गहन समीक्षा की जाए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए की सभी कलेक्टर्स जिले के बड़े बांधों और जलाशयों की स्थिति पर नजर रखें। संबंधित अमला पूर्ण सजग, सतर्क रहे। नर्मदा घाटी विकास विभाग के कंट्रोल रूम से भी निरंतर संपर्क रखा जाए ताकि जलभराव और बांधों के गेट खोलने की स्थिति आने पर सभी आवश्यक इंतजाम हो सकें। संभागीय कमिश्नर्स भी नियमित मॉनिटरिंग कर कठिनाई की स्थिति में समाधान निकालने में पीछे न रहें। बाढ़ की स्थिति में आपदा राहत के लिए सभी उपयोगी उपकरण कार्य करने की स्थिति में रखते हुए बचाव दल मुस्तैद रहें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने फसलों की वर्तमान स्थिति की जानकारी भी ली।
आज की बैठक में मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, पुलिस महानिदेशक श्री विवेक जौहरी, अपर मुख्य सचिव श्री एस.एन. मिश्रा और अन्य अधिकारी उपस्थित थे।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कहीं प्रदेश में अतिवर्षा के कारण गंभीर स्थिति नहीं है लेकिन पूरी तरह सतर्क रहकर आमजन को परेशानी से बचाने के प्रयास हों। बाढ़ की स्थिति की सूचनाओं के आदान-प्रदान और समन्वय के लिए कलेक्टर सीमावर्ती जिलों के कलेक्टर्स के साथ भी निरंतर संपर्क में रहें।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जिन शहरी क्षेत्रों के वार्डों अथवा ग्रामीण क्षेत्रों में जलभराव की स्थिति बन गई है, या बस्तियों में पानी प्रवेश कर गया है, वहां रहने वाले लोगों को सुरक्षित स्थानों पर शिफ्ट किया जाए। राहत स्थलों पर भोजन, पेयजल, आश्रय की पर्याप्त व्यवस्थाएं सुनिश्चित करें। जिलास्तरीय कंट्रोल रूम पूरी तत्परता से कार्य करें। संबंधित स्टाफ अपने दायित्व के निर्वहन के लिए सजग रहे।
पिकनिक स्थलों पर जाने से बचें आमजन, सावधानी आवश्यक है
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रशासनिक अमले से यह भी सुनिश्चित करने को कहा कि जिले के ऐसे पिकनिक स्थलों जहाँ झरने देखने के लिए लोग पहुँच जाते हैं, वहां जाने से लोग बचें। ऐसे स्थानों पर सुरक्षा के लिए आवश्यक सावधानियाँ रखी जाएं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आमजन से भी ऐसे स्थानों पर जाने का मोह छोड़कर सावधानी बरतने का अनुरोध किया है।
नदियों जलाशयों और बांधों का जलस्तर
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने अधिक वर्षा वाले जिलों और नदियों एवं बांधों के जलस्तर की जानकारी भी प्राप्त की।बैठक में जानकारी दी गई कि प्रदेश में भोपाल-इन्दौर सहित होशंगाबाद, रायसेन, सीहोर, राजगढ़, विदिशा, उज्जैन, धार, शाजापुर, खण्डवा जिलों में सर्वाधिक वर्षा हुई है। तीन जिलों को छोड़कर कहीं भी सामान्य से कम बारिश नहीं है। करेली, होशंगाबाद, मोरटका में नर्मदा का जलस्तर खतरे के निशान से काफी नीचे है। टमस, केन, टोंस, चंबल, पार्वती, बेतवा का जलस्तर भी क्रमश: सिरमौर, गुनौर, मैहर, नागदा, बरखेड़ा, मकसूदनगढ़ और नीमखेड़ा में खतरे के निशान से बहुत कम है। जलाशयों में बरगी जबलपुर का जलस्तर 421 मीटर, तवा, होशंगाबाद का जलस्तर 352 मीटर, बारना रायसेन का जलस्तर 345 मीटर, इंदिरा सागर जलाशय खण्डवा का जलस्तर 256 मीटर, ओंकारेश्वर का 194 मीटर, बाणसागर जलाशय का 341 मीटर है।
किसानों की सलाह के लिए कृषि विभाग तत्पर
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रदेश में फसलों की वर्तमान स्थिति की जानकारी भी प्राप्त की। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि यदि कहीं अतिवर्षा से फसलों पर प्रभाव पड़ता है तो किसानों को आवश्यक मार्गदर्शन उपलब्ध करवाया जाए। प्रमुख सचिव कृषि श्री अजीत केसरी ने बताया कि वर्तमान समय में फसलों पर कीट व्याधि की समस्या सामने आती है। किसान कल्याण और कृषि विकास विभाग ने जिलों में दल बनाकर क्षेत्र के भ्रमण के निर्देश जारी किए हैं। कृषि वैज्ञानिकों द्वारा कीट व्याधि की समस्या के समाधान के लिए किसानों को सलाह दी जा रही है। विभागीय योजना में किसानों को आर्थिक सहायता भी दी जाती है। यदि कहीं जलभराव की स्थिति बनती है तो जल निकासी करने का किसानों को आवश्यक परामर्श दिया जा रहा है। दैनिक समीक्षा के लिए जिलास्तर पर नियंत्रण कक्ष भी बनाने के निर्देश दिए गए है। कृषि संचालनालय में भी कंट्रोल रूम गठित किया गया है।

श्री मोहनखेड़ा महातीर्थ में आचार्य रवीन्द्रसूरीश्वरजी का 67 वां जन्मोत्सव मनाया,आचार्यश्री क्षमा की मूर्ति थे: आचार्य ऋषभचन्द्रसूरीश्वरजी




 राजगढ़ (धार) म.प्र. 23 अगस्त 2020 । श्री आदिनाथ राजेन्द्र जैन श्वे. पेढ़ी ट्रस्ट श्री मोहनखेड़ा महातीर्थ के तत्वाधान में व दादा गुरुदेव की पाट परम्परा के अष्टम पट्टधर वर्तमान गच्छाधिपति आचार्यदेवेश श्रीमद्विजय ऋषभचन्द्रसूरीश्वरजी म.सा. मुनिमण्डल व साध्वीवृंद की पावनतम निश्रा में सप्तम पट्टधर अर्हत्ध्यान योगी गच्छाधिपति आचार्यदेवेश श्री रवीन्द्रसूरीश्वरजी म.सा. का ऋषि पंचमी के पावन पुनित अवसर पर जन्मोत्सव मनाया गया ।
इस अवसर पर गच्छाधिपति आचार्य श्री ऋषभचन्द्रसूरीश्वरजी म.सा. ने कहा कि जिनशासन में क्षमा का बहुत महत्व है । गलती कर लेने के बाद तुरन्त क्षमा मांग लेना चाहिये साथ ही उस गलती को मेहसुस करना चाहिये । जीवन में मित्रता को धारण करना है तो ह्रदय में क्षमा के भावों को स्थान देना पड़ेगा । यह बात हमारे सप्तम पट्टधर गच्छाधिपति आचार्य श्री रवीन्द्रसूरीश्वरजी म.सा. के रगरग में बसी हुई थी । आचार्यश्री ने अपने जीवन काल में कभी भी किसी भी बात का कोई प्रतिकार नहीं किया । उनको कोई भी व्यक्ति कुछ भी भलाबूरा बोल देता उसे हंसकर टाल देते थे और क्षमा कर देते थे । ये मेरा व्यक्तिगत अनुभव है । कहने को तो हम दोनों भाई थे पर दोनों की विचार धारायें विपरीत थी । उन्हें मृत्यु का कोई भय नहीं था उन्होंने ‘‘अवधूत की डायरी‘‘ में कई कविताओं की रचना भी की । उनका जन्म 1954 में ऋषि पंचमी के दिन हुआ था वे 7 वर्ष की उम्र में जिनशासन की सेवा के लिये माता द्वारा गुरु भगवन्तांे को समर्पित कर दिये गये थे । वे साक्षत क्षमा की की मूर्ति के रुप में रहे व जिये थे । मैत्री भाव को धारण करना बहुत कठिन है मन में वैर के भाव रखने से व्यक्ति दूसरों की निन्दा करता है । कोई हमें कष्ट दे उसे भी क्षमा करों इसी को ही ’’क्षमा वीरस्य भूषणं’’ कहते है । वीरों का आभूषण ही क्षमा है । महावीर का भी यही संदेश रहा है । जहां जीव समता के भावों में रमण करें हमें ऐसी जीवन शैली जीना है ।
कार्यक्रम में तपस्वी मुनिराज श्री जीतचन्द्रविजयजी म.सा. ने गुणानुवाद सभा मेें अपने गुरु का गुणानुवाद किया । आचार्य रवीन्द्रसूरीश्वरजी म.सा. के चित्र पर तीर्थ के मेनेजिंग ट्रस्टी सुजानमल सेठ, ट्रस्टी मेघराज जैन, संजय सराफ आदि ने माल्यार्पण कर दीप प्रज्जवलित किया एवं आचार्यश्री के 67 वें जन्म दिवस के अवसर पर 67 दीपक श्री मेघराज जैन लोढ़ा परिवार द्वारा प्रज्जवलित किये गये । आचार्यश्री के समाधि मंदिर पर आरती श्री धनराज जी जैन बालोतरा परिवार द्वारा उतारी गयी । प्रातः 6 बजे जिन मंदिर एवं गुरु समाधि मंदिर का द्वारोघाटन श्री राहुल सुमेरमलजी रांका परिवार द्वारा किया गया ।

युवा सिविल इंजीनियर ने इंजीनियरिंग छोड़,डिजिटल की दुनिया में लाई नई क्रांति - राहुल कुमार पांडे




HINDI NEWS: पटना के रहने वाले 25 वर्षीय युवा राहुल कुमार पांडे की गिनती आज सफल और कामयाब उद्यमियों में की जाती है. पेशे से सिविल इंजीनियर राहुल को जब इंजीनियरिंग की राह पसंद ना आई तो उन्होंने मार्केटिंग की राह को चुन लिया और साल 2017 के अंत में बिहार की सबसे पहली इनफ्लुएंसर मार्केटिंग एजेंसी - एफएनएफ मीडिया की स्थापना की. हालाँकि, राहुल की कामयाबी का यह सफ़र काफ़ी उतार-चढ़ाव भरा रहा. दरअसल, बिहार की राजधानी से आने वाले राहुल के घरवाले और दोस्त हमेशा से यही चाहते थे कि वह सरकारी अधिकारी बने. परंतु, राहुल ने किसी की बात को भी अपने पर हावी ना होने दिया और अपने  द्वारा निर्धारित किए हुए लक्ष्य पर टिके रहे.
 
अधिकतर युवा वर्ग अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद, नौकरी की तलाश में जुट जाते है या नौकरी पाने के बाद अपनी ज़िंदगी उसी के आसपास व्यस्त रखते है. हालाँकि, अन्य बच्चों की तरह राहुल ने भी प्रसिद्ध यूनिवर्सिटी से डिग्री पाने के बाद सिविल इंजीनियर बनने की तैयारी में लग गए. लेकिन, एक माह के भीतर ही उन्हें इस बात का अहसास होने लगा कि अगर  उन्हें दुनिया में अपनी अलग पहचान बनानी है, तो कुछ हटके ही करना होगा. ऐसे में उन्होंने अपनी एजेंसी की शुरूआत केवल एक इंटर्न के साथ की, और आज वह मज़बूत 21 कर्मचारियों की टीम के साथ खड़े है. बता दें, काफ़ी कम वक्त में एफएनएफ मीडिया ने रिलायंस एंटरटेनमेंट, कजारिया टाइल्स, कोमियो मोबाइल, पीसीआरए आदि जैसे समूह के साथ चल रहे व्यवसायों को स्थापित किया.
 
फ़िलहाल, राहुल अब तक सूचना और जनसंपर्क विभाग, बालाजी टेलीफ़िल्मस, टीसीएल, फ्लिपकार्ट जैसी 100 से अधिक अलग-अलग क्षेत्र के नामचीन क्लाइंट्स के साथ काम कर चुके है, और अब उनके पास विभिन्न कंपनियों और बॉलीवुड सेलेब्रिटीज के साथ काम करने का अनुभव भी है. अपनी कड़ी मेहनत और लगन की बदौलत आज राहुल की कंपनी का टर्नओवर लाखों में पहुँच चुका है. “कहते है ना अगर किसी चीज को दिल से चाहो तो पूरी कायनात उसे तुमसे मिलाने की कोशिश में लग जाती है” और यह लाइन राहुल की ज़िंदगी पर सटीक बैठती है. आज एफएनएफ मीडिया की बड़े- बड़े राज्यों में कई शाखाएं हैं.सिर्फ़ इतना ही नहीं साल 2019 में सिलिकॉन इंडिया मैगज़ीन द्वारा एफएनएफ मीडिया को 'स्टार्टअप ऑफ द ईयर इन इन्फ्लुएंसर' के लिए शॉर्टलिस्ट किया गया था. राहुल को ग्लोबल स्टार्टअप अवार्ड्स – सार्क पुरस्कार के लिए भी नामांकित किया जा चुका है.

सरदारपुर-लाबरिया उप स्वास्थ्य केंद्र पर आने वाले मरीजों को योगा के साथ सावधानी बताई...



 
  सरदारपुर(धार)। आयुष मंत्रालय की योजनातर्गत जिला धार तहसील सरदारपुर में सीएमएचओ श्रीमती शीला मुजाल्दा के निर्देशन में लाबरिया उप स्वास्थ्य केंद्र पर इन दिनों महीने में 10 दिन योगाचार्य श्री अश्विनी दीक्षित (व्यायाम अनुदेशक ) शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय राजगढ़ जिला धार के मार्गदर्शन में स्वास्थ्य केंद्र पर आने वाले समस्त मरीजों को योगा के माध्यम से वैश्विक महामारी कोरोना से लड़ने के उपाय जैसे सोशल डिस्टेंसिंग , दिन में कम से कम 20 बार हाथ धोएं , ज्यादा जरूरी काम होने पर ही घर से बाहर निकले , भीड़भाड़ वाले इलाके में ना जाए और दिन में कम से कम तीन बार गर्म पानी के सेवन के बारे में बताया जा रहा हैं l योग और प्राणायाम से अपनी इम्यूनिटी कैसे बढ़ाएं बताया जा रहा है l साथ ही अन्य बीमारियों मैं योग द्वारा किस तरह से फायदा पहुंचे वह योग के माध्यम से बताया जा रहा है l समस्त गतिविधियां शिविर के माध्यम से उप स्वास्थ्य केंद्र लाबरिया पर नियमित  करवाई जा रही हैं उप स्वास्थ्य केंद्र प्रभारी श्रीमती सरोज शर्मा (एएनएम)   अर्पिता राव (सी एच ओ) शारदा भलावी -- महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ता, सोनू मारू, राधा बैरागी , कंचन ओसारी, रेखा सोलंकी आदि  उपस्थित रही l

गणेश चतुर्थी 2020: कलाकारों ने बनाए माटी से गणेश जी....

  
  राजगढ़/ धार - गणेश चतुर्थी 2020 से पहले अन्तर्राष्ट्रीय कलाकार राहुल व्यास और उनकी साथी मित्र भूमिका बाफना ने 50 मूर्ति हस्त निर्मित बनाई । कुछ ही दिनों में गणेश चतुर्थी का उत्सव मनाएंगे, यह वह समय है जब सड़कों पर गणपति बाप्पा मोरया का जयकारा कानों में सुनने को मिलता है । मंदिर और घर भी भगवान गणेश के आगमन के लिए तैयार है । 
   हालांकि इस वर्ष कोरोना वायरस महामारी के कारण सामूहिक रूप से गणेश जी की आराधना नहीं की जा सकेगी लेकिन कलाकार राहुल व्यास ने बताया कि पूरा भारतवर्ष इस गणेश जी के स्वागत के लिए पूरी तरह से तैयार है और पर्यावरण को किसी भी तरह का नुक़सान पहुंचाए बिना इस पर्यावरण के अनुकूल तरीके से गणेश चतुर्थी मनाने के लिए तैयार है ।
राहुल व्यास और भूमिका बाफना पिछले कुछ दिनों से गणेश जी की हस्त निर्मित प्रतिमा गढ़ रहे है और वह ऐसा कई वर्षों से करते आ रहे है । इस वर्ष पर्यावरण को क्षति ना पहुंचे और स्वच्छ भारत के मिशन के तहत नगर में 50 गणेश जी की हस्त निर्मित प्रतिमा का निःशल्क वितरण करेंगे ।

  "विसर्जन के बाद मैने देखा कि नदी तट टूटी हुई मूर्तियों से अटा पड़ा रहता है । यह देखकर मैं परेशान होता था कि इससे छोटे जीवों को हानि होती है और पर्यावरण भी दूषित होता है । इसलिए पिछले कई वर्षों से मैं माटी के गणेश जी बनाकर विराजित करता था परन्तु इस वर्ष से लोगो को जागरूक करने के लिए 50 मूर्ति का निःशुल्क वितरण करेंगे । यह एक अनूठा अनुभव है, जो मुझे शांति और देश सेवा करने का अवसर प्रदान करता है - राहुल व्यास (अन्तर्राष्ट्रीय कलाकार)"