BREAKING NEWS
latest

श्री मंशा महादेव व्रत कल 1 अगस्त से होगा आरंभ,व्रतधारी जुटे तैयारी में.....

mansa mahadev vrat katha in hindi mansa vacha vrat katha mansa mahadev vrat 2021 date mansa vacha vrat vidhi mansa mahadev vrat udyapan date 2021 मनसा महादेव व्रत के नियम मनसा महादेव व्रत कथा इन हिंदी pdf मनसा व्रत कब है 2022



  भगवान शिव हर तरह की इच्छाओं की पूर्ति करने वाला मंशा महादेव व्रत कल यानि 1 अगस्त सोमवार से आरंभ हो रहा है। राजगढ़ व आसपास के क्षेत्रों में हज़ारो व्रतधारी मंशा महादेव व्रत करते है। यह व्रत कोई साधारण व्रत नहीं है। इसलिये व्रतधारियों बताए गए विधि अनुसार व्रत को करना होता है। व्रत के दौरान चार माह में आने वाले हर सोमवार को शिवलिंग की पूजा की जाती है।

   आपको बताते मंशा महादेव व्रत राजगढ़ में स्थित पांच धाम एक मुकाम श्री माताजी मन्दिर  सहित अनेको शिवालयों में कल 1 अगस्त सोमवार से शुरू होगा इसके लिये  कल से व्रतधारी कोरोना काल की पाबंदी के बाद इस वर्ष बड़ी संख्या में जुटेंगे। 

   साथ ही अति प्राचीन पांच धाम एक मुकाम माताजी मन्दिर पर भारत देश के कई प्रान्तों सहित मध्यप्रदेश के कई नगरो में यह व्रत माताजी मंदिर से संकल्प लेकर किया जाता है और तो और विदेश में भी भारत वासी मंशा महादेव भक्त मोबाइल पर संकल्प लेकर व्रत करते है,भगवान शिव का यह व्रत श्रावण माह के शुक्लपक्ष की चतुर्थी से प्रारम्भ होकर कार्तिक माह के शुक्लपक्ष की चतुर्थी को पूर्ण होता है। इसमें जितने भी सोमवार आते है,उनमे कथा श्रवण करना और एक समय भोजन पाना 4 माह तक वृति को प्याज, लहसुन, गाजर, मूली, बैंगन, मद, दुसरे का झुठन, दूसरे के वस्त्रो का त्याग पृथ्वी या काष्ठ पर शयन किसी की निंदा नही करना,किसी प्राणी की हिंसा नही करना, असत्य का त्याग,  इन्द्रियों का निग्रह रखना ऐसा करने वाले तथा इन नियमो से रहने वाले वृति को अवश्य फल मिलता है। गुरु माता पिता व अतिथि व अपने बड़ो का सत्कार करना चाहिए। इस विधि से जो कोई इस व्रत को धारण करेगा उसके सब दुखो का निवारण होकर वह सब सुखो को प्राप्त करेगा।

   सोशल मीडिया के माध्यम से व्रतधारियों को बकायदा इसकी जानकारी माताजी मन्दिर से दी जा रही है। इसमे व्रतधारियों द्वारा तैयारी में जुटे हुए है। आपको बताते माताजी मन्दिर से बताई गई विधि के अनुसार 29 सामग्री व्रतधारी एकत्रित करने में जुटे है इसमे कंकु,अबीर, गुलाल,हल्दी,मेहन्दी,चावल,कपूर,लच्छा,अगरबत्ती,सुपारी छोटी 1,सुपारी बड़ी 2,चन्दर पावडर,जनेऊ जोड़ा 2,नारियल 1,खारक 2,बादाम 2,फूलमाला,खुल्ले फूल,बिल्व पत्र,द्रोप,पान लगा हुआ,पंचामृत,फल,भांग,लौंग इलायची,मिश्री चीरोंजी,घी की बत्ती,नन्दी सिक्का,डोरा 4 ग्रन्थी सामग्री है। इसके जब यह व्रत पूर्ण होता है उसमें होने वाला उद्यापन में आटा 2 कि.,घी 625 ग्रा.और गुड़ 500 ग्रा की आवश्यकता करनी होती है।


« PREV
NEXT »

No comments