BREAKING NEWS
latest

Mann Ki Baat : PM मोदी ने किया राम जन्मभूमि पर फैसले का जिक्र,2010 के फैसले के जरिए किया एकता का संदेश

(Photo Credit:https://www.narendramodi.in)


 
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मन की बात कार्यक्रम के जरिये देशवासियों को संबोधित करते हुए सबसे पहले सबको दीपावली की बहुत बहुत शुभकामनाएं दी |  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अपने संबोधन में गुरु नानक देवजी, भारत की लक्ष्मी,सरदार पटेल,स्टैचू आॅफ यूनिटी,रन फाॅर यूनिटी,राम मन्दिर,ओर स्वच्छता का जिक्र किया।

मन की बात में प्रधानमंत्री मोदी ने 17वीं शताब्दी की सुप्रसिद्ध कवयित्री साँची होनम्मा (Sanchi Honnamma), जिक्र करते हुए संबोधित किया कि उन्होंने, 17वीं शताब्दी मेंकन्नड़ भाषा मेंएक कविता लिखी थी वो भाववो शब्दभारत की हर लक्ष्मीये जो हम बात कर रहे हैं ना ! ऐसा लगता हैजैसे कि उसका foundation 17वीं शताब्दी में ही रच दिया गया था कितने बढ़िया शब्दकितने बढ़िया भाव और कितने उत्तम विचारकन्नड़ भाषा की इस कविता में हैं |

  प्रधानमंत्री मोदी ने गुरुनानक के जीवन पर प्रकाश डालते हुए संबोधित किया कि 12 नवंबर, 2019 – यह वो दिन हैजिस दिन दुनिया भर मेंश्री गुरुनानक देव जी का 550वाँ प्रकाश उत्सव मनाया जाएगा गुरुनानक देव जी का प्रभाव भारत में ही नहीं बल्कि पूरे विश्व मे है दुनिया के कई देशों में हमारे सिख भाई-बहन बसे हुए हैं जो गुरुनानकदेव जी के आदर्शों के प्रति पूर्ण रूप से समर्पित हैं मैं वैंकूवर (Vancouver) और तेहरान (Tehran) में गुरुद्वारों की अपनी यात्राओं को कभी नहीं भूल सकता श्री गुरुनानकदेव जी बारे में ऐसा बहुत कुछ है जिसे मैं आपके साथ साझा कर सकता हूँलेकिन इसके लिए मन की बात के कई एपिसोड लग जाएंगे उन्होंनेसेवा को हमेशा सर्वोपरि रखा गुरुनानकदेव जी मानते थे कि निस्वार्थ भाव से किए गए सेवा कार्य की कोई क़ीमत नहीं हो सकती वे छुआ-छूत जैसे सामाजिक बुराई के खिलाफ मजबूती के साथ खड़े रहे श्री गुरुनानक देव जी ने अपना सन्देशदुनिया मेंदूर-दूर तक पहुँचाया वे अपने समय में सबसे अधिक यात्रा करने वालों में से थे कई स्थानों पर गये और जहां भी गयेवहांअपनी सरलताविनम्रतासादगी – उन्होंने सबका दिल जीत लिया गुरुनानक देव जी ने कई महत्वपूर्ण धार्मिक यात्राएँ कीजिन्हें उदासी’ कहा जाता है सद्भावना और समानता का सन्देश लेकरवेउत्तर हो या दक्षिणपूर्व हो या पश्चिम - हर दिशा में गयेहर जगह लोगों सेसंतों और ऋषियों से मिले माना जाता है कि असम के सुविख्यात सन्त शंकरदेव भी उनसे प्रेरित हुए थे उन्होंने हरिद्वार की पवित्र भूमि की यात्रा की काशी में एक पवित्र स्थल, ‘गुरुबाग गुरुद्वारा’ है – ऐसा कहा जाता है कि श्री गुरुनानक देव जी वहां रुके थे वे बौद्ध धर्म से जुड़ी राजगीर’ और गया’ जैसे धार्मिक स्थानों पर भी गए थे दक्षिण में गुरुनानक देव जीश्रीलंका तक की यात्रा की कर्नाटका में बिदर की यात्रा के दौरानगुरुनानक देव जी ने हीवहां पानी की समस्या का समाधान किया था बिदर में गुरुनानक जीरा साहब’ नाम का एक प्रसिद्ध स्थल है जो गुरुनानक देव जी की – हमें याद भी दिलाता हैउन्हीं को ये समर्पित है एक उदासी के दौरानगुरुनानक जी ने उत्तर मेंकश्मीर और उसके आस-पास के इलाके की भी यात्रा की इसे सिख अनुयायियों और कश्मीर के बीच काफी मजबूत सम्बन्ध स्थापित हुआ गुरुनानक देव जी तिब्बत भी गयेजहां के लोगों नेउन्हें, ‘गुरु’ माना वे उज्बेकिस्तान में भी पूजनीय हैंजहांउन्होनेंयात्रा की थी अपनी एक उदासी के दौरानउन्होंनेबड़े पैमाने पर इस्लामिक देशों की भी यात्रा की थीजिसमें, Saudi Arab, Iraq और Afghanistan भी शामिल हैं वे लाखों लोगों के दिलों में बसेजिन्होंने पूरी श्रद्धा के साथ उनके उपदेशों का अनुसरण किया और आज भी कर रहे हैं अभी कुछ दिन पहले हीकरीब 85 देशों के Eighty Five Countries के राजदूतदिल्ली से अमृतसर गये थे वहां उन्होंने अमृतसर के स्वर्ण मंदिर के दर्शन किये और ये सब गुरुनानक देव जी के 550वें प्रकाशपर्व के निमित्त हुआ था वहां इन सारे राजदूतों ने Golden Temple के दर्शन तो किये हीउन्हेंसिख परम्परा और संस्कृति के बारे में भी जानने का अवसर मिला इसके बाद कई राजदूतों ने Social Media पर वहां की तस्वीरें साझा की बड़े गौरवपूर्वक अच्छे अनुभवों को भी लिखा मेरी कामना है कि गुरु नानक देव जी के 550 वाँ प्रकाश पर्व हमें उनके विचारों और आदर्शों को अपने जीवन में उतारने की और अधिक प्रेरणा दें एक बार फिर मैं शीश झुकाकर गुरु नानक देव जी को नमन करता हूँ |

 प्रधानमंत्री मोदी ने लौह पुरूष सरदार वल्लभ भाई पटेल को याद किया कहा  वे देश को एकता के सूत्र में पिरोने वाले महानायक थे सरदार पटेल में जहाँ लोगों को एकजुट करने की अद्भुत क्षमता थीवहीँवे उन लोगों के साथ भी तालमेल बिठा लेते थे जिनके साथ वैचारिक मतभेद होते थे सरदार पटेल बारीक़-से-बारीक़ चीजों को भी बहुत गहराई से देखते थेपरखते थे सही मायने मेंवे ‘Man of detail’ थे इसके साथ ही वे संगठन कौशल में भी निपुण थे योजनाओं को तैयार करने और रणनीति बनाने में उन्हें महारत हासिल थी |  संविधान सभा में उल्लेखनीय भूमिका निभाने के लिए हमारा देशसरदार पटेल का सदैव कृतज्ञ रहेगा उन्होंने मौलिक अधिकारों को सुनिश्चित करने का महत्वपूर्ण कार्य कियाजिससेजाति और संप्रदाय के आधार पर होने वाले किसी भी भेदभाव की गुंजाइश न बचे |
 भारत के प्रथम गृहमंत्री के रूप में सरदार वल्लभभाई पटेल नेरियासतों कोएक करने काएक बहुत बड़ा भगीरथ और ऐतिहासिक काम किया सरदार वल्लभभाई की ये ही विशेषता थी जिनकी नज़र हर घटना पर टिकी थी एक तरफ उनकी नज़र हैदराबादजूनागढ़ और अन्य राज्यों पर केन्द्रित थी वहीँ दूसरी तरफ उनका ध्यान दूर-सुदूर दक्षिण में लक्षद्वीप पर भी था दरअसलजब हम सरदार पटेल के प्रयासों की बात करते हैं तो देश के एकीकरण में कुछ खास प्रान्तों में ही उनकी भूमिका की चर्चा होती है लक्षद्वीप जैसी छोटी जगह के लिए भी उन्होंने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी इस बात को लोग शायद ही याद करते हैं आप भलीभांति जानते है कि लक्षद्वीप कुछ द्वीपों का समूह है यह भारत के सबसे खुबसूरत क्षेत्रों में से एक है | 1947 में भारत विभाजन के तुरंत बाद हमारे पड़ोसी की नज़र लक्षद्वीप पर थी और उसने अपने झंडे के साथ जहाज भेजा था सरदार पटेल को जैसे ही इस बात की जानकारी मिली उन्होंने बगैर समय गंवायेजरा भी देर किये बिनातुरंतकठोर कार्यवाही शुरू कर दी उन्होंने Mudaliar brothers, Arcot Ramasamy Mudaliar और Arcot Lakshmanaswami Mudaliar से कहा कि वो त्रावणकोर के लोगों के साथ लेकर तुरंत कूच करें और वहाँ तिरंगा फहरायें लक्षद्वीप में तिरंगा पहला फहरना चाहिए उनके आदेश के फ़ौरन बाद वहाँ तिरंगा फहराया गया और लक्षद्वीप पर कब्ज़ा करने के पड़ोसी के हर मंसूबे देखते ही देखते ध्वस्त कर दिए इस घटना के बाद सरदार पटेल ने Mudaliar brothers से कहा कि वे व्यक्तिगत रूप से ये सुनिश्चित करें कि लक्षद्वीप को विकास के लिए हर जरुरी मदद मिले आजलक्षद्वीप भारत की प्रगति मेंअपना महत्वपूर्ण योगदान दे रहा है यह एक आकर्षक tourist destination भी है मुझे उम्मीद है कि आप सब भी इसके खुबसूरत द्वीपों और समुद्र तटों की यात्रा करेंगे |

31 अक्तूबर, 2018 का दिनजिस दिन सरदार साहब की याद में बना ‘Statue of Unity’ देश और दुनिया को समर्पित किया गया था यह दुनिया की सबसे ऊँची प्रतिमा है अमेरिका में स्थित ‘Statue of Liberty’ से भी ऊँचाई में double है दुनिया की सबसे ऊँची प्रतिमा हर हिन्दुस्तानी को गर्व से भर देती है हर हिन्दुस्तानी का सिर शान से ऊँचा उठ जाता है आपको ख़ुशी होगी एक वर्ष में, 26 लाख से अधिक पर्यटक, ‘Statue of Unity’ को देखने के लिए पहुँचें इसका मतलब हुआ कि प्रतिदिन औसतन साढ़े आठ हज़ार लोगों ने ‘Statue of Unity’ की भव्यता का दर्शन किया 
  प्रधानमंत्री ने यह भी कहा देश के लिएसभी राज्यों के लिए, tourism industry के लिएये ‘Statue of Unity’ एक अध्ययन का विषय हो सकता है हम सब इसके साक्षी हैं कि कैसे एक साल के भीतर-भीतर एक स्थानविश्व प्रसिद्ध tourism destination के तौर पर विकसित होता है वहाँ देश विदेश से लोग आते हैं | Transport कीठरहने की, guides की, eco-friendly व्यवस्थायेंएक-के-बाद एक अपने आप बहुत सारी व्यवस्थायें विकसित होती चली जा रही हैं बहुत बड़ी economy develop हो रही है और यात्रियों की आवश्यकता के अनुसार लोग वहाँ सुविधाएँ पैदा कर रहे हैं सरकार भी अपनी भूमिका निभा रही है साथियों कौन हिन्दुस्तानी होगा जिसको इस बात का गर्व नहीं होगा कि पिछले दिनों time magazine ने दुनिया के 100 महत्वपूर्ण tourist destination में Statue of Unity को भी अहम् स्थान दिया है मुझे आशा है कि आप सभी लोग अपने कीमती समय से कुछ वक़्त निकाल कर Statue of Unity देखने तो जाएंगे हीलेकिनमेरा आग्रह जो है कि हर हिन्दुस्तानी जो यात्रा करने के लिए समय निकालता है वह भारत के कम से कम 15 Tourist Destinations परिवार के साथ करेंजहाँ जाए वहाँ रात को रुकेंयह मेरा आग्रह तो बरक़रार है ही है |

  प्रधानमंत्री संबोधित करते राष्ट्रीय एकता दिवस का जिक्र किया कहा 2014 से हर साल 31 अक्तूबर को राष्ट्रीय एकता दिवस’ मनाया जाता है यह दिनहमेंअपने देश की एकताअखंडता और सुरक्षा की हर कीमत पर रक्षा करने का सन्देश देता है | 31 अक्तूबर कोहर बार की तरह Run for Unity का आयोजन भी किया जा रहा है इसमें समाज के हर वर्ग केहर तबके के लोग शामिल होंगे | Run for Unity इस बात का प्रतीक हैयह देश एक है एक दिशा मे चल रहा है और एक लक्ष्य को प्राप्त करना चाहता है एक लक्ष्य - एक भारतश्रेष्ठ भारत I

  पिछले पांच साल देखा गया है - न सिर्फ़ दिल्ली लेकिन हिन्दुस्तान के सैकड़ों शहरों मेंकेंद्र शासित प्रदेशों मेंराजधानियों मेंजिला केन्द्रों मेंछोटे-छोटे टियर-टू-टियर थ्री सिटी में भी बहुत बड़ी मात्रा में पुरुष होमहिला होशहर के लोग होंगाँव के लोग होंबालक होनौजवान होवृद्ध लोग होंदिव्यांगजन होसब लोग बहुत बड़ी मात्रा में शामिल हो रहे हैं वैसे भीआजकलदेखें तो लोगों में मैराथन को लेकर के एक शौक और जूनून देखने को मिल रहा है | Run For Unity भी तो एक ऐसा ही अनोखा provision है दौड़ना मन-मस्तिष्क और शरीर सबके लिए फायदेमंद है यहाँ तो दौड़ना भी है FIT India के भाव को चरितार्थ भी करते हैंसाथ-साथएक भारत - श्रेष्ठ भारत ये purpose से भी हम जुड़ जाते हैं और इसलिए सिर्फ शरीर नहींमन और संस्कार भारत की एकता के लिए भारत को नई उचाईयों पर पहुँचाने के लिये और इसलिए आप जिस भी शहर में रहते होंवहाँअपने आसपास Run For Unity के बारे में पता कर सकते हैं इसके लिए एक Portal Launch किया गया है runforunity.gov.in | इस portal में देशभर की उन जगहों की जानकारी दी गई है जहाँ पर Run For Unity का आयोजन होना है मुझे उम्मीद है कि आप सब 31 अक्तूबर को ज़रूर दौड़ेगें - भारत की एकता के लिएख़ुद की Fitness के लिये भी |

  मन की बात में प्रधानमंत्री मोदी ने राम जन्मभूमि पर फैसले का जिक्र करते हुए सम्बोधित किया कि मुझे याद है कि सितम्बर 2010 में जब राम जन्मभूमि पर इलाहाबाद हाईकोर्ट ने अपना फैसला सुनाया जरा उन दिनों को याद कीजियेकैसा माहौल था भांति-भांति के कितने लोग मैदान में आ गये थे कैसे-कैसे Interest Groups उस परिस्थितियों का अपने-अपने तरीके से फ़ायदा उठाने के लिए खेल खेल रहे थे माहौल में गर्माहट पैदा करने के लिएकिस-किस प्रकार की भाषा बोली जाती थी भिन्न-भिन्न स्वरों में तीखापन भरने का भी प्रयास होता था कुछ बयानबाजों ने और कुछ बड़बोलों ने सिर्फ और सिर्फ खुद को चमकाने के इरादे से न जाने क्या-क्या बोल दिया थाकैसी-कैसी गैर - ज़िम्मेवार बातें की थी हमें सब याद है लेकिन ये सबपांच दिनसात दिनदस दिनचलता रहालेकिनजैसा ही फैसला आयाएक आनंददायकआश्चर्यजनक बदलाव देश ने महसूस किया एक तरफ दो हफ्ते तक गर्माहट के लिए सब कुछ हुआ थालेकिनजब राम जन्मभूमि पर फैसला आया तब सरकार नेराजनैतिक दलों नेसामाजिक संगठनों ने, civil society नेसभी सम्प्रदायों के प्रतिनिधियों नेसाधु-संतों ने बहुत ही संतुलित और संयमित बयान दिए माहौल से तनाव कम करने का प्रयास लेकिन आज मुझे वो दिन बराबर याद है जब भी उस दिन को याद करता हूँ मन को खुशी होती है न्यायपालिका की गरिमा को बहुत ही गौरवपूर्ण रूप से सम्मान दिया और कहीं पर भी गर्माहट कातनाव का माहौल नहीं बनने दिया ये बातें हमेशा याद रखनी चाहिए ये हमें बहुत ताकत देती है वो दिनवो पलहम सबके लिए एक कर्त्तव्यबोध है एकता का स्वरदेश कोकितनी बड़ी ताकत देता है उसका यह उदाहरण है |

 प्रधानमंत्री मोदी ने संबोधन यह भी कहा  31 अक्टूबर,हमारे देश की पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा जी की हत्या भी उस दिन हुई थी देश को एक बहुत बड़ा सदमा लगा था मैं आज उनको भी श्रद्धाजंलि देता हूँ |

 प्रधानमंत्री मोदी ने संबोधन यह भी कहा  आजघर-घर की अगर कोई एक कहानी सब दूर सुनाई देती हैहर गाँव की कोई एक कहानी सुनाई देती है - उत्तर से दक्षिणपूर्व से पश्चिमहिंदुस्तान के हर कोने सेएक कहानी सुनाई देती है तो वो है स्वच्छता की हर व्यक्ति कोहर परिवार कोहर गाँव कोस्वच्छता के सम्बन्ध में अपने सुखद अनुभवों कहने का मन करता हैक्योंकिस्वच्छता का यह प्रयास सवा-सौ करोड़ हिन्दुस्तानियों का प्रयास है परिणाम के मालिक भी सवा-सौ करोड़ हिन्दुस्तानी ही हैं लेकिन एक सुखद अनुभव और रोचक अनुभव भी है मैंने सुनामैं सोचता हूँमैंआपको भी सुनाऊं आप कल्पना करियेविश्व का सबसे ऊँचा battlefield, जहाँ का तापमान शून्य से 50-60 डिग्री minus में चला जाता है हवा में oxygen भी नाम मात्र की होती है इतनी विपरीत परिस्थितियों मेंइतनी चुनौतियों के बीच रहना भीकिसी पराक्रम सेकम नहीं है ऐसे विकट हालात मेंहमारे बहादुर जवान न सिर्फ सीना तान कर देश की सीमाओं की सुरक्षा कर रहे हैंबल्किवहां स्वच्छ सियाचिन अभियान भी चला रहे हैं भारतीय सेना की इस अद्भुत प्रतिबद्धता के लिए मैं देशवासियों की ओर से उनकी सराहना करता हूँ कृतज्ञता प्रकट करता हूँ वहां इतनी ठण्ड है कि कुछ भी decompose होना मुश्किल है ऐसे मेंकूड़े-कचरे को अलग करना और उसका प्रबंधन करनाअपने आप में काफी महत्वपूर्ण काम है ऐसे में, glacier और उनके आस-पास के इलाके से 130 टन और उससे भी ज्यादा कचरा हटाना और वो भी यहाँ के fragile eco-system के बीच ! कितनी बड़ी सेवा है ये ! यह एक ऐसा eco-system है जो हिम तेंदुए जैसी दुर्लभ प्रजातियों का घर है यहाँ ibex और brown bears जैसे दुर्लभ जानवर भी रहते हैं हम सब जानते हैं कि यह सियाचिन एक ऐसा glacier है जो नदियों और स्वच्छ पानी का स्त्रोत है इसलिए यहाँ स्वच्छता अभियान चलाने का मतलब है उन लोगों के लिए स्वच्छ जल सुनिश्चित करना जो निचले इलाकों में रहते हैं साथ ही Nubra और Shyok जैसी नदियों के पानी का उपयोग करते हैं |

  प्रधानमंत्री मोदी ने संबोधन यह भी कहा उत्सवहम सबके जीवन में एक नई चेतना को जगाने वाला पर्व होता है और दीवाली में तो खासतौर पर कुछ-न-कुछ नया खरीदनाबाजार से कुछ लाना हर परिवार में कम-अधिक मात्रा में होता ही होता है मैंने एक बार कहा था कि हम कोशिश करें - local चीजों को खरीदें हमारी जरुरत की चीज हमारे गाँव से मिलती है तो तहसील में जाने की जरुरत नहीं है तहसील में मिलती है तो जिले तक जाने की जरुरत नहीं है जितना ज्यादा हम अपने local चीजें खरीदने का प्रयास करेंगें, ‘गांधी 150’, अपने आप में एक महान अवसर बन जाएगा और मेरा तो आग्रह रहता ही है कि हमारे बुनकरों के हाथ से बना हुआहमारे खादी वालो के हाथ से बना हुआकुछ-न-कुछ तो हमें खरीदना ही चाहिए इस दीवाली में भीदीवाली के पहले तो आपने बहुत कुछ खरीद कर लिया होगा लेकिन बहुत लोग ऐसे भी होते हैं वो सोचते हैं कि दिवाली के बाद जायेंगें तो शायद थोड़ा सस्ता भी मिल जाएगा तो बहुत लोग होंगे जिनके अभी खरीदी बाकी भी होगी तो दीपावली की शुभकामनाओं के साथ-साथ मैं आपसे आग्रह करूँगा कि आओ हम local खरीदने के आग्रही बनेंस्थानीय चीजें खरीदें देखियेमहात्मा गाँधी के सपने को सिद्ध करने में हम भी कितनी अहम भूमिका निभा सकते हैं |


« PREV
NEXT »

No comments