BREAKING NEWS
latest

Diwali 2019:धन तेरस एवं दीपावली को इन शुभ महूर्त में करें पूजन-अर्चन, अपनी कुल परम्परा के अनुसार ही करें दीपावली पूजन - ज्योतिषाचार्य श्री भारद्वाज



 राजगढ़(धार)। धनतेरस (Dhanteras) हिन्‍दुओं के प्रमुख त्‍योहार दीपावली (Diwali) पर्व का पहला दिन है. शुक्रवार को धन त्रयोदश है एवं रविवार को दिपावली। इस दिन अपनी कुल रीति  के अनुसार ही धन की देवी महालक्ष्मी एवं कुबरे महाराज का पूजन करना चाहिए।
   उक्त जानकारी देते हुए नगर के पांच धाम एक मुकाम श्री माताजी मंदिर के ज्योतिषाचार्य श्री पुरूषोत्तमजी भारद्वाज ने बताया की कल धन त्रयोदश श्री कुबेर पूजन, लक्ष्मी पुजन एवं यम तर्पन व यम प्रीत्यर्थ दीपदान हेतु प्रातः 07:56 से 10:47, दोपहर 12:13 से 1:38 बजे सायं  5: 58 से 8:32 मिनट का महुर्त शुभ रहेगा।
  रविवार को दिपावली (Diwali) महापर्व पर श्री महालक्ष्मी पूजन अर्चन, गादी स्थापना, स्याही भरना एवं कलम दवात सवांरना हेतु चल - प्रातः 758 से 924 बजे, लाभ प्रातः 924 से 1049 बजे, अमृत प्रातः 1049 से 1214 बजे, अभिजित मुहुर्त दोपहर 1147 से 1236 बजे, शुभ दोपहर 140 से 305 बजे, शुभ सायं 555 से 730 बजे, अमृत सायं 730 से 905 बजे, चल रात्रि में 905 से 1040 बजे तक रहेंगा। इसी दिन वृश्चिक लग्न प्रातः 0809 से 1024 बजे, कुम्भ लग्न दोपहर 217 से 350, गोधूली प्रदोश सायं 549 से 702 बजे, वृषभ लग्न सायं 702 से 9 बजे तथा सिंह लग्न रात्रि 129 से 340 बजे तक शुभ महूर्त रहेंगे है। शुभ मुहुर्त में श्री गोवर्धन पूजा (Govardhan Puja) , अन्नकुट महोत्सव, नवीन वस्त्र धारण, देव-गुरू दर्शन, दुकान एवं कार्यालय खोलना, नवीन कार्य शुभारंभ, रोकड़ मिलान एवं लेखन, गादी स्थापना, पूजन परिजन से क्षमायाचना आशीर्वाद ग्रहण आदी कार्य करें। अपने कुलदेवी तथा देवता का पूजन कुल रीति के अनुसार ही करें। यह दिपावली सभी के लिए मंगलमय रहेगी 29 अक्तूबर मंगलवार को भाई दूज एवं 31 अक्टूबर गुरुवार को विनायक चतुर्थी के दिन श्री मंसा महादेव का व्रत उद्यापन होगा।


« PREV
NEXT »

No comments