BREAKING NEWS
latest

एबीपी सांझा अब टाटा स्काई पर उपलब्ध,यह टाटा स्काई के फ्री-टू-एयर चैनल नंबर 1929 पर उपलब्ध होगा



मुम्बई : गुरूपर्व के पावन मौके पर एबीपी सांझा ने भारत के अग्रणी डायरेक्ट-टू-होम (डीटीएच) प्लेटफॉर्म पर अपने लॉन्च की घोषणा की है। टाटा स्काई के साथ इस साझेदारी के तहत सब्सक्राइबर्स डीटीएच प्लेटफॉर्म पर एबीपी सांझा देख सकेंगे। इससे दुनिया भर में फैले पंजाबी भाषी समुदायों में एबीपी सांझा की मौजूदगी को सशक्त बनाने में मदद मिलेगी। यह चैनल मुख्य रूप से पंजाबियों और पंजाबीयत को ध्यान में रखते हुए अपनी सेवाएं उपलब्ध कराता है। 


पंजाब क्षेत्र के मुद्दों पर खासतौर पर ध्यान केन्द्रित करने वाले एबीपी सांझा ने पंजाबी दर्शकों को अपना इंटरैक्टिव कंटेंट उपलब्ध कराने के लिए यह विशेष पहल की है, जो राजनैतिक, सामाजिक, आर्थिक एवं खेल जगत से जुड़े सभी कार्यक्रमों को कवर करता रहा है। एबीपी सांझा के शानदार  कंटेंट एवं स्थानीय भाषा में बेजोड़ कवरेज के चलते इसकी डिजिटल साईट को हर माह 11.1 मिलियन पेज व्यूज़ मिलते हैं। एबीपी सांझा के डिजिटल न्यूज़ प्लेटफॉर्म की बात करें तो यूट्यूब पर इसके 1.39 मिलियन सब्सक्राइबर्स और फेसबुक पर 1.1 मिलियन लाईक्स हैं। ये आंकड़े एबीपी सांझा की विश्वसनीयता और प्रतिष्ठा की पुष्टि करते हैं और साथ ही दर्शकों के बीच प्लेटफॉर्म की शानदार कंटेंट डिलीवरी को भी दर्शाते हैं। 


टाटा स्काई पर एबीपी सांझा की शुरूआत के बारे में बात करते हुए श्री अविनाश पाण्डेय, सीईओ, एबीपी नेटवर्क ने कहा, ‘‘2014 में इंटरनेट प्लेटफॉर्म्स पर एबीपी सांझा की शुरूआत के बाद से, इसे ज़बरदस्त लोकप्रियता मिली है। टाटा स्काई पर एबीपी सांझा की शुरूआत ब्राण्ड के लिए एक बड़ा कदम है। एबीपी सांझा के ज़ी5, जियो  टीवी, एमएक्स प्लेयर, एमज़ॉन फायर टीवी पर पहले से बड़ी संख्या में दर्शक हैं। एबीपी सांझा उद्योग जगत के बदलते रूझानों को भी दर्शाता है, जहां प्रोडक्ट्स का लॉन्च पहले स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म्स पर किया जाता है और फिर इसे केबल एवं सैटेलाईट प्लेटफॉर्म्स पर पेश किया जाता है। एबीपी नेटवर्क के लिए हमने इस रूझान की शुरूआत की और हमें खुशी है कि उद्योग जगत के अन्य प्लेटफॉर्म्स भी अब इसे अपना रहे हैं।’  


एबीपी सांझा की मजबूत क्रिएटिव एवं प्रोग्रामिंग टीम लोकप्रिय पत्रकारों के साथ मिलकर तालमेल में काम करती है और दर्शकों को बेजोड़ अनुभव प्रदान करती है। हाल ही में 4 अक्टूबर को चण्डीगढ़ में आयोजित शिखर सम्मेलन से भी इस बात की पुष्टि हुई, जिसमें पंजाब के राजनैतिक दलों के दिग्गजों ने हिस्सा लिया था। यह कार्यक्रम ज़बरदस्त सफल रहा, जिसने पंजाब के चुनावी माहौल में हो रहे राजनैतिक उथल-पुथल पर रोशनी डाली और दर्शकों को अगले साल के आगामी चुनावों से पहले सही राजनैतिक तस्वीर दिखाई। 


पंजाब में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले टाटा स्काई पर एबीपी सांझा की शुरूआत की जा रही है, ऐसे में चैनल निश्चित रूप से नए दर्शकों को आकर्षित करेगा। चैनल ने आने वाले समय के लिए प्रोग्रामों की लम्बी सूची की योजना बना रखी है, जिसमें मौजदू मुद्दों को ध्यान में रखते हुए दर्शकों के लिए प्रोग्राम उपलब्ध कराए जाएंगे जैसे चोना दा चूल्हा चौंका, सांझी साथ सियासी सच, कौन बनेगा सीएम और त्वाडा हल्का त्वाडा लीडर, क्या हुआ तेरा वादा।


अपने इन प्रोग्रामों के माध्यम से चैनल पंजाब के आगामी चुनावों से जुड़े हर पहलु को दर्शकों के समक्ष लेकर आएगा, इसमें ग्रामीण महिलाओं, ग्रामीण राजनीति से लेकर मुख्यमंत्री पद के मजबूत दावेदार तक हर मुद्दे पर चर्चा की जाएगी। क्या हुआ तेरा वादा के माध्यम से एबीपी सांझा ने आम जनता की सोच को  जानने और मौजूदा सरकार द्वारा किए गए कार्यों, 2017 में उनके द्वारा पेश किए चुनावी घोषणापत्र पर कवरेज की योजना बनाई है। इसी तरह त्वाडा हल्का त्ववाडा लीडर एक इंटरैक्टिव शो है, जिसमें किसी विशेष निर्वाचन क्षेत्र के प्रतिनिधी मंत्रियों और विधायकों की रिपोर्ट कार्ड का मूल्यांकन करेंगे।


टाटा स्काई पंजाब राज्य का सबसे लोकप्रिय एकमात्र पेड प्लेटफॉर्म है जो 7 लाख परिवारों (तकरीबन 28-30 लाख लोगों) को अपनी सेवाएं प्रदान करता है। राज्य में इसकी 14 फीसदी हिस्सेदारी है, इसके बाद एयरटेल की हिस्सेदारी 12 फीसदी है।  


एबीपी नेटवर्क के बारे में

एक आधुनिक मीडिया एवं कंटेंट क्रिएशन कंपनी एबीपी नेटवर्क, ब्रॉडकास्ट एवं डिजिटल क्षेत्र में भरोसेमंद आवाज़ है, जो अपने बहु-भाषी न्यूज़ चैनलों के व्यापक पोर्टफोलियो के साथ देश भर में 535 मिलियन दर्शकों तक पहुंचती है। नेटवर्क की कंटेंट इनोवेशन शाखा एबीपी क्रिएशन्स के दायरे में आने वाला एबीपी स्टुडियोज़- खबरों के दायरे से बाहर जाकर मूल एवं उत्कष्ट कंटेंट को क्रिएट, प्रोड्यूस और लाइसेंस करता है। एबीपी नेटवर्क, एबीपी की सामुहिक ईकाई है, जिसकी शुरूआत तकरीबन 100 साल पहले हुई और एक अग्रणी भारतीय मीडिया सदन के रूप में अपने आप को मजबूती से स्थापित किए हुए है।

« PREV
NEXT »

No comments