BREAKING NEWS
latest

विराट धर्मसभा के साथ आचार्य श्री ऋषभचन्द्र सुरीजी का पुण्योत्सव प्रारंभ,गुरु भक्ति से ही विद्या फलती है: मुनिश्री रजतचंद्र विजयजी

 

 झाबुआ । श्री ऋषभदेव बावन जीनालय मे चातुर्मास हेतु विराजित प.पू.गच्छाधिपति आचार्य देवेश श्रीमद्बिजय ऋषभचंद्र सूरीश्व़रजी म.सा.के आज्ञानुवर्ती शिष्य प.पू.मुनिराज श्री रजतचंद्र विजयजी म.सा. पू.मुनि श्री जीतचन्द्र विजयजी म.सा. की पावन निश्रा मे आज आचार्य श्री पूज्य ऋषभचन्द्र सूरीश्वरजी म सा की स्मॄति मे आयोजित 5 दिवसीय 'पुण्योत्सव और वीर 'गणधर लब्धि तप'के तपस्या के अनुमोदन हेतु 'तप अभिनंदन समारोह' का आयोजन सुबह प्रातः 07:00 बजेश्री स्नात्र पूजन और भक्तामर स्त्रोत वह गुरु चालिसा पाठ से प्रारम्भ हुआ | प्रातः 09:00 बजे धर्मसभा एवं तपस्वी बहुमान के कार्यक्रम मे धर्मचन्द्र मेहता ने गुरूदेव श्री ऋषभचन्द्र सुरीजीकी गुरु वंदना करवायी | दोनो मुनिश्री की वंदना की गयी | मंगलाचरण से धर्म सभा प्रारम्भ हुई | पूज्य मुनिश्री रजत विजयजी म सा ने पूज्य आचार्य श्री ऋषभचन्द्र सुरीश्वरजी महाराज साहेब के जन्म प्रसंग एवं जीवन पर प्रकाश डाला | 

इसके पूर्व आचार्य श्री की मनमोहक तस्वीर की स्थापना लाभार्थी श्री नरेशजी श्वेताजी भंडारी उज्जैन वालो ने लिया |  गहुली डा.नगिनलालजी यशोदा बेन ने लिया | तस्वीर पर माल्यार्पण का लाभ सपना संघवी के 31उपवास तपस्या निमित्त हस्तीमलजी सागरमल जी सांघवी ने किया | पधारे हुए विशिष्ट अतिथियों दीप प्रज्जवलित किया गया । वासक्षेप द्वारा गुरुपद पूजन लाभार्थी अशोक कुमार बाबूलालजी कोठारि शाजापुर वालो ने लिया | 12:00 बजे स्वामीवात्सल्य लाभार्थी श्रीमती शोभाबेन पूत्र अर्पितजी कांकरेचा़ परिवार की और से आयोजित हुआ | 1 :00 बजे सपना संघवी तप अनुमोदनार्थे चौवीसी हुई।दोपहर 02:00 बजे श्रीआदिनाथ पंचकल्याणक पूजा व अंगरचना लाभार्थी श्री रासिकलालजी बाबुलालजी शाह रहे । रात्री 08:30 बजे भक्ति भावन का आयोजन हुआ | लाभार्थी श्रीमान शैलेश जी रौनकजी तपनजी शाह झाबुआ थे | भक्ति भावना छत्तीसगढ़ के सुपर-डुपर भक्ति स्टार अंकित लोढ़ा रायपुर ने कराई |  गौतम स्वामी जी गुरुदेव राजेंद्र सुरीजी और गुरुदेव ऋषभचन्द्र सुरीजी की आरती उतारी गयी | समस्त तपस्वियों का बहुमान लाभार्थी परिवार की तरफ़ से किया गया | सोने के सिक्के द्वारा राकेश जी कुंदनमल बोराणा की और से सभी तपस्वीयों का बहुमान किया गया | संचालन संजय काठी ने किया |

« PREV
NEXT »

No comments