BREAKING NEWS
latest

Guru Saptami Festival 2019 : श्री मोहनखेड़ा महातीर्थ में झण्डावंदन के साथ गुरु सप्तमी महामहोत्सव का भव्य शुभारम्भ, शांति को प्राप्त करना है तो प्रपंचों से मुक्त रहना होगा : आचार्य ऋषभचन्द्रसूरि




  राजगढ़ (धार) | दादा गुरुदेव की पाट परम्परा के अष्टम पट्टधर श्री मोहनखेड़ा तीर्थ विकास प्रेरक प.पू. वर्तमान गच्छाधिपति आचार्यदेवेश श्रीमद्विजय ऋषभचन्द्रसूरीश्वरजी म.सा., मुनिराज श्री जिनचन्द्रविजयजी म.सा., मुनिराज श्री जीतचन्द्रविजयजी म.सा., मुनिराज श्री जनकचन्द्रविजयजी म.सा. एवं साध्वी श्री किरणप्रभाश्री जी म.सा., साध्वी श्री सद्गुणाश्री जी म.सा., साध्वी श्री संघवणश्री जी म.सा. आदि ठाणा की निश्रा व श्री आदिनाथ राजेन्द्र जैन श्वे. पेढ़ी ट्रस्ट श्री मोहनखेड़ा महातीर्थ के तत्वावधान में ध्वजवंदन के साथ गुरु सप्तमी महामहोत्सव का भव्य आगाज किया गया ।






इस अवसर पर गच्छाधिपति आचार्यदेवेश श्रीमद्विजय ऋषभचन्द्रसूरीश्वरजी म.सा. ने गुरुभक्तों से कहा कि मानव शरीर मोबाईल की भाति है । बैटरी डिस्चार्ज हो जायेगी तो पुनः चार्ज हो जायेगी और रिचार्ज खत्म हो गया तो फिर से रिचार्ज हो जायेगा पर यदि मोबाईल टुट गया तो व्यक्ति विचलित हो जाता है उसका किसी काम में मन नहीं लगता है । इसलिये अपने मन को हमेशा रिचार्ज करके रखिये और शरीर को समाप्त होने से पहले उसे सद्मार्ग पर ले जाने का प्रयास करें तभी हमारी मृत्यु महोत्सव के रुप में तब्दील हो सकती है । अन्यथा हम मृत्यु से भयभीत रहेगें आत्मा अमर है संसार परिवर्तन शील है, संसार और आत्मा हमेशा बदलाव की स्थिति में रहते है । आत्मा एक शरीर से दूसरे शरीर को प्राप्त कर लेती है । संसार में व्यक्ति शांति ढुढता है पर उसे मिलती नहीं है । संसारी सुख शांति नहीं देते है । शांति को प्राप्त करने के लिये संसार के प्रपंचों से मुक्त रहना पड़ता है, इसलिये गुरुदेव ने कहा है कि स्वपर्याय में रहे । स्वयं की आत्मा के बारे में सोचे, हमेशा परपर्याय से बचने का प्रयास करें। पौष सुदी पंचमी आज का दिवस संकल्प दिवस है । दादा गुरुदेव माण्डव के एतिहासिक यात्रा संघ में चल रहे थे उनके पैर में कांटा लगा | कांटा लगने का यह पहला अवसर था । उनको लगा की अब आयु पूर्ण होने वाली है । वे ज्वर भी पीड़ित हो चूके थे । आज ही के दिन पौष सुदी पंचमी को सुबह 8 बजे से अन्न जल आदि का त्याग कर अनशन करते हुये देह त्याग का संकल्प धारण कर लिया । मात्र 36 घण्टे याने पौष सुदी 6 को रात्रि 8 बजे अंतिम श्वास ली थी । संकल्प दिवस के अवसर पर हमें आत्मा के चिन्तन का संकल्प लेना चाहिये । हम दादा गुरुदेव के बताये मार्ग पर चले ऐसा संकल्प ले | दादा गुरुदेव की पूण्य स्थली हमें उर्जा प्रदान करती है ।
तीर्थ के महामंत्री फतेहलाल कोठारी, मेनेजिंग ट्रस्टी सुजानमल सेठ, कोषाध्यक्ष हुक्मीचंद वागरेचा, ट्रस्टी शांतिलाल सांकरिया, मांगीलाल पावेचा,जयंतिलाल बाफना, बाबुलाल खिमेसरा,बाबुलाल वर्धन, संजय सराफ, सुखराज कबदी, मांगीलाल रामाणी,कमलेश पांचसौवोरा, आनन्दीलाल अम्बोर एवं समाजसेवी भेरुलाल गादिया, जयंतिलाल कंकुचोपड़ा, भरत शाह, अशोक जैन, चिमनलाल जैन, अशोक कापड़िया, सेवन्तीलाल मोदी, राजेन्द्र खजांची,नरेन्द्र भण्डारी पार्षद, दिलीप भण्डारी, तीर्थ महाप्रबंधक अर्जुनप्रसाद मेहता, सहप्रबंधक प्रीतेश जैन आदि की उपस्थिति में ध्वजवंदन किया गया । ध्वजवंदन के पश्चात् धर्मसभा में दादा गुरुदेव श्रीमद्विजय राजेन्द्रसूरीश्वरजी म.सा. के चित्र पर भीनमाल नगरपालिका अध्यक्ष श्रीमती विमला सुरेशजी वोहरा ने माल्यार्पण किया । धर्मसभा में आचार्यश्री ने बागरा निवासी विनेश ओटमलजी जैन, राजगढ़ निवासी राजेन्द्रकुमार लालचंदजी गोठी खजांची एवं युवा कार्यकर्ता दिलीप मनोहरलालजी भण्डारी को तीर्थ की सलाहकार समिति में सदस्य के रुप में शामिल किया ।

 सोमवार रात्रि में राजगढ़ नगर की महिला व बालिका मण्डलों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुति दी गई । आज मंगलवार को अखिल भारतीय विराट कवि सम्मेलन रात्रि 9 बजे से प्रारम्भ होगा।

  कल बुधवार को प्रातः 5 बजे से वासक्षेप पूजा प्रारम्भ होगी तत्पश्चात् विभिन्न औषधि युक्त जल से शाही अभिषेक प्रातः 8 बजे से प्रारम्भ होगे । अभिषेक के पश्चात् प्रातः 9 बजे से केसर पूजा प्रारम्भ होगी । श्री मोहनखेड़ा महातीर्थ में गुरु सप्तमी महामहोत्सव के अवसर पर पहली बार वर्तमान गच्छाधिपति आचार्यदेवेश श्रीमद्विजय ऋषभचन्द्रसूरीश्वरजी म.सा. के मुखारविंद से वर्ष 2020 की प्रथम महामांगलिक का आयोजन प्रातः 11 बजे श्री आदिनाथ राजेन्द्र जैन श्वे. पेढ़ी ट्रस्ट श्री मोहनखेड़ा महातीर्थ द्वारा रखा गया है । तीर्थ के महामंत्री फतेहलाल कोठारी एवं मेनेजिंग ट्रस्टी सुजानमल सेठ ने आग्रह करते हुये कहा है कि इन आयोजनों में अधिक से अधिक संख्या में पधारकर जिनशासन एवं गुरुगच्छ की शोभा में अभिवृद्धि करें ।

« PREV
NEXT »

No comments