BREAKING NEWS
latest

राजगढ़: भगवान श्रीकृष्ण जन्मोत्सव पर नंद घर आनंद भयो,जय कन्हैया लाल कि से गूंजे सनातन धर्म के 13 मन्दिर

Bhagvat Katha (Bhagwat Katha),Bhagwat Katha Bhagwat Katha in Hindi,Bhagwat katha Book,Bhagwat katha book,भागवत कल्पद्रुम, #Bhagwat_Kalpadrum, श्रीमद भागवत कथा, भजन - कथा, Shrimad Bhagwat Geeta, Shrimat Bhagwat Katha, Sampurn Bhagwat Katha, Shrimad Bhagwat Katha, Geeta Ka Gyan, Bhajan-Kirtan, Sampurn Gita, Bhajan Sagar, Bhajan Sandhya, inspirational prasang, inpirational quotes, bhagwan ki bhakti, satsang pravacha geeta satsang pravachan, guru pravachan satsang, satsang pravachan hindi video, satsang pravachan, श्री #कृष्ण जन्मोत्सव की कथा,श्रीमद् भागवत ज्ञान गंगा,श्रीमद् भागवत ज्ञान गंगा यज्ञ, श्रीमद् भागवत कथा ज्ञान गंगा यज्ञ,shrimad bhagwat gyan ganga ,shrimad bhagwat katha gyan ganga,श्रीमद् भागवत ज्ञान गंगा कथा


  राजगढ़ नगर में सनातन धर्म केे 13 मन्दिरों एकसाथ श्रीमद् भागवत ज्ञान गंगा बह रही है।  उसी के अन्र्तगत आज शुक्रवार को भगवान श्री कृष्ण का जन्मोत्सव हर्षोल्लास से मनाया गया। माताजी मंदिर पर श्री पुरुषोत्तम जी भारद्वाज ,शंकर मंदिर मालीपुरा पवन जी शर्मा राजगढ़ वाले,देववंशीय मालवीय लोहार समाज मैं प्रवीण जी शर्मा,.श्री चारभुजा मंदिर श्री मधुसूदन जी शर्मा देवपुर राजस्थान वाले,श्री आई माता मंदिर दलपुरा में श्री प्रकाश जी शर्मा सोनगढ़ वाले ,श्री राधा कृष्ण गवली समाज मंदिर मैं श्री लखन जी शर्मा राजगढ़,श्री शेष साईं राजपूत समाज मंदिर पर श्री कृष्ण कांत शर्मा छड़ावाद वाले ,शेषनाग महादेव मंदिर मंडी मैं श्री अखिलेश जी कजरौटा वाले ,श्री बाबा रामदेव चारण समाज मंदिर पर श्री पवन जी शर्मा तिरला वाले ,श्री राम सेन समाज मंदिर में श्री महेश जी शर्मा राजोद वाले ,.श्री सरकारी मंदिर में श्री सुनील जी शास्त्री भानगढ़ वाले ,श्री राम मंदिर दलपुरा में श्री विनोद जी शर्मा बड़वासा वाले,.श्री लालबाई फूलबाई माता मंदिर मैं चंद्र प्रकाश जी दवे लाबरिया वाले ने व्यास पीठ से जैसे ही जन्मवाचन किया सभी परिसर भगवान श्रीकृष्ण जन्मोत्सव पर नंद घर आनंद भयो,जय कन्हैया लाल के जयकारों से गूंजयमान हो गये। साथ महिलाए नृत्य कर झूमने लगी। जन्मोत्सव पर श्रृ़द्धालुओ द्वारा एक दूसरे को हल्दी की छाप लगाई। इसके साथ आरती के पश्चात माखन मिश्री की प्रसादी वितरण की।





शाम को निकले झूले

इधर, डोल ग्यारस के अवसर पर शाम 5 बजते ही मंदिर परिसरों से झूले नगर भ्रमण के लिए निकालें गए। श्रद्धालुओं के दर्षनार्थ हेतू लडडू गोपाल की मूर्ति भी विराजित की गई थी। अनेकों स्थानों पर महिलाओं ने पूजन-अर्चन कर श्रीफल भेंट किया। इस वर्ष कोरोना गाइडलाइन के चलते सामूहिक रूप से झूले नहीं निकाले गए।


« PREV
NEXT »

No comments