BREAKING NEWS
latest

Sadakat Aman Khan की शानदार सफलता की कहानी

 


  मानव जीवन सुख दुःख के प्रवाह में बढ़ते हुए सदा चलता रहता हैं।  सबके अलग अलग मंज़िल होती है सभी जीवन में सफलता प्राप्त करना चाहते है परन्तु सफलता उनकी ही कदम चुमती है जो सबसे हटके होते हैं और उनकी अलग पहचान होती है। ऐसे लोगों के लिए एक कहावत होती है - होनहार वीरवान के हात चिकने पात।  सदाकत अमन खान के जीवन पर क्या ही प्रकाश डाला जाए, उसके प्रतिभा ने उसे स्वत: प्रकाशित कर दिया है। 


 पश्चिम बंगाल के मालदा में जन्म लेने वाला सदाकत अमन खान आज अपनी अद्भुत प्रतिभा के कारण विश्व में स्थान बना लिए है।  उसकी प्रतिभा विश्व मंच पर लोगों के ह्रदय को जीत रही है।  उनका संगीत के प्रति सम्पर्ण श्रोताओं और दर्शको को बड़ा प्रभावित करता है।  उनके संगीत को सुनकर श्रोता असीम शांति का अनुभव प्राप्त करते हैं ऐसा लगता है मनो अपनी संगीत से उन्होंने लोगो को तरोताजा कर दिया हो। उनका संगीत शुकुन देता है। 

  सदाकत अमन खान बचपन में एक बेहद शरारती और साहसी बालक थे।  जीवन के आदर्श की कद्र वे सदा से करते आ रहे  है।  उनका परिवार एक संगीत समृद्ध परिवार है, संगीत में डूबे रहना उनका परंपरा है। संगीत शास्त्र  के गुण उनके परिवार में पीढ़ी दर पीढ़ी चली आ रही  है यूँ कहिए की उनके परिवार के सभी सदस्यों के ह्रदय में संगीत बस्ता है और नसों में संगीत दौड़ता है।  

 "मेरे मन कछु और हैं, प्रभु के मन कछु और", सदाकत अमन खान कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग को अपना लक्ष्य मानकर उस तरफ बढ़ रहे थे।  आधुनिक तकनीक के रुझान ने उन्हें अपनी और बढ़ने के लिए कंप्यूटर की  और उनके जिज्ञासु मन को खींच लिया। वे बीटेक करने के लिए कलिंगा इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंडस्ट्रियल टेक्नोलॉजी, भुबनेश्वर, ओड़िसा में दाखिला लिया।  ये सफलता की कभी न सम्पन होने वाली यात्रा थी। 

  केआईआईटी के साथ पूर्व-मौजूदा स्तिथी से जूझता हुआ सांस्कृतिक समाज से जुड़कर सदाकत अमन खान अपने कलाकार मन के लिए एक स्थान की तलाश में लग गए। अंतराष्ट्रीय स्तर पर खरा होने के लिए एक मंच चाहिए विश्वविद्यालयों में सांस्कृतिक आयोजनों में अवसर पाना गुणों को बढ़ाने का एक कदम था। उनके मन में संगीत के लिए अद्धात प्रेम था, इस प्रेम को संगीत प्रेमियों तक पहुंचने का जूनून भी था बस आवशकता थी सदाकत जैसे युवा को भीड़ से निकल कर सम्रधको के प्यार के बल पर मंच तक पहुंचने की।  सदाकत संगीत प्रेमियों की भावनाओ को समझते थे, उन्ही आदर्शो के कारण वे प्रतिस्पर्धा का सामना कर पाये। दर्शकों और श्रोताओं ने उन्हें अपने सर आँखों पर बिठा लिया। 

 इंजीनियरिंग और संगीत के यादगार सफर में सदाकत अमन खान ने जीवन के विभिन्न पहलुओं को समझा हैं। उनके प्रसंशक उन्हें मिस्टर हारमोनियम का प्रिय बना दिया।
« PREV
NEXT »

No comments