BREAKING NEWS
latest

प्रो. डॉ दिनेश गुप्ता - आनंदश्री की पुस्तक " मन पॉजिटिव, शरीर नेगेटिव" अमेज़ॉन बेस्ट सेलर में शामिल,नकारात्मक मानसिकता पर सकारात्मकता का वैक्सीन




 शरीर का ब्लड ग्रुप कोई भी हो लेकिन मन का ब्लड " बी पॉजिटिव" होना चाहिए इस संदेश के साथ यह पुस्तक को शुरुवात होती है।

  लगातार कोरोना में अलग अलग विषय पर अपने विचारो को भारत के सभी अग्रणीय अखबारों में अपने लेख द्वारा पहचान बनाने वाले अध्यात्मिक व्याख्याता माइन्डसेट गुरु प्रो डॉ दिनेश गुप्ता-  आनंदश्री की पुस्तक  " मन पॉजिटिव, शरीर नेगेटिव"हाल ही के ऑनलाइन प्रकाशित की गयी। 

 कोरोना में मानसिक रूप से अपने आपको स्वस्थ, मस्त और एक्टिव रखने के अलग अलग गुर इस पुस्तक में बताए गए है। यह पुस्तक कहती है कि " 

" 2020 के पहले की दुनिया अलग थी और 2020 के बाद दुनिया पूरी तरह से बदल गयी।  हमने सोचा तक नहीं ऐसे ऐसे मंजर होने देख लिया।  आज का दौर कोविड महामारी का दौर है। या यूँ कहे यह आत्ममंथन का युग है।  जिस तरह सागर मंथन में विष भी निकला और अमृत भी निकला। इस दौर ने हमें विष के साथ अमृत भी इस मानव सभ्यता को दिया।  नुकसान के साथ साथ तूफ़ान में जीने का सलीका भी बताया।  

 यह आपको जीने की नयी राह बताएगी, इस दौर में एक उम्मीद की किरण दिखाएगी।  जो हुआ नहीं वह होगा।  कहते है चमत्कार यंहा रोज हो रहे है लेकिन अनुभव वही करते है जो इसा पर विश्वास करते है।  यह पुस्तक चमत्कारों से भरा है हर पंक्ति आपको प्रेरित करती है।"


आनंदश्री कहते है कि इंसान अपने माइंड को सकारात्मक रखते हुए बड़े से बड़े बीमारी को हरा सकता है।


इस पुस्तक को ऑथर ट्री प्रकाशन के माध्यम से प्रकाशित की गई।प्रकाशक - मिथलेश कौशिक ने स्वयम इस पुस्तक के कवरपेज एवं क्रिएटिविटी को बनाया। उनका कहना है कि यह पुस्तक उम्मीद का दिया है। 

बहुत जल्द इस पुस्तक को महामहिम राष्ट्रपति जी एवं आदरणीय प्रधानमंत्री को प्रेषित की जाएगी।

« PREV
NEXT »

कोई टिप्पणी नहीं