BREAKING NEWS
latest

मदर्स डे 2021 - जानिए, भारत को "भारत माता" क्यों माना जाता है?-उमेश पंसारी

Mother-'s-Day-2021-Umesh-Pansari


(उमेश पंसारी ,युवा समाजसेवी, नेतृत्वकर्ता और कॉमनवेल्थ स्वर्ण पुरस्कार विजेता)

   हम "भारत माता" और "धरती माता" के रूप में शब्द सुनते हुए बड़े हुए हैं। हजारों वर्षों से समाज इन विचारों को भेज रहा है। अक्सर मैं सोचता हूं कि हम भारत को भारत माता का हकदार क्यों मानते हैं? क्या यह महिलाओं या लड़की या किसी और चीज से संबंधित है?

  मातृभूमि से जुड़े तथ्यों की तलाश में समय नहीं लगता है। कुछ दिनों तक तथ्यों को सोचने, खोजने और देखने के बाद, मेरी इच्छा संतुष्टि महसूस करने लगी। मुझे मिले परिणाम वाकई चौंकाने वाले हैं।

यह उल्लेख करते हुए गर्व महसूस होता है कि हमारे प्राचीन वेदों (संस्कृत भाषा) का जाप करते हुए कहते हैं - "माता भूमिः पुत्रोऽहं प्रथिव्याह" जिसका अर्थ है, कि भूमि माँ है और मैं उसका पुत्र हूँ। यह दर्शाता है कि भारत की आध्यात्मिकता देशभक्ति और राष्ट्र निर्माण के विचार को प्रभावित करती है।

  भारत के विश्व प्रसिद्ध प्राचीन संस्कृत महाकाव्य रामायण, जिसे महर्षि वाल्मीकि ने लिखा है, ""जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी"" का वर्णन करता है, जो माता और मातृभूमि के उस स्थान का वर्णन करता है जो स्वर्ग से ऊपर है। "भारत माता की जय" भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के दौरान सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाने वाला नारा था। 'भारत माता' का जिक्र सबसे पहले किरण चंद्र बंद्योपाध्याय के नाटक में आया, जो वर्ष 1893 में किया गया था। भारत की मुक्ति के लिए किए गए प्रयासों में, राष्ट्रवादियों ने इस नारे का बार-बार इस्तेमाल किया। इस उक्ति ने, जिसने भारत माता की विजय की घोषणा की, स्वतंत्रता संग्राम के सैनिकों को नया उत्साह दिया। आज भी, इस नारे का उपयोग राष्ट्र प्रेम या राष्ट्र निर्माण से संबंधित अवसरों, कार्यक्रमों और आंदोलनों में किया जाता है। बंकिम चंद्र चट्टोपाध्याय के उपन्यास "आनंदमठ" में 1872 में "वंदे मातरम" गीत शामिल था, जो जल्द ही स्वतंत्रता आंदोलन का मुख्य गीत बन गया।

    'भारत माता की जय' अब भारतीय सेना का आदर्श बन गया है। धन्य है वह देश जो हमेशा माता की ममता और आशीर्वाद प्राप्त करता रहेगा। वह धरती कितनी पावन होगी जो हमेशा माँ की छाया में रहती है | भारत को मेरा कोटि - कोटि प्रणाम।


« PREV
NEXT »

No comments