BREAKING NEWS
latest

भोपाल में राष्ट्रीय हिन्दी रक्षक मंच का सम्मान समारोह व कवि सम्मेलन सम्पन्न



  भोपाल। राष्ट्रीय हिन्दी रक्षक मंच इंदौर (hindirakshak.com) द्वारा हिन्दी भाषा का अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रचार-प्रसार के संकल्प अभियान के अंतर्गत राष्ट्रीय हिन्दी रक्षक मंच द्वारा विश्व स्तर पर साहित्यकारों, कवियों, लेखकों कों जोड़ने का सफलतम प्रयास किया जा रहा हैं। राष्ट्रीय हिन्दी रक्षक मंच के इस आंदोलन में राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय स्तर के हजारों साहित्यकार, लेखक व नवीन रचनाकार जुड़ते चले जा रहे हैं। हिन्दी भाषा का परचम विश्व में लहराए इस उद्देश्य कों लक्ष्य बनाकर इन दिनों राष्ट्रीय हिन्दी रक्षक मंच तेजी से प्रयासरत हैं। साथ ही कोरोना काल के चलते राष्ट्रीय हिन्दी रक्षक मंच द्वारा "साहित्यकार का सम्मान साहित्यकार के घर-द्वार" अभियान चलाया जा रहा है इसी के अंतर्गत राष्ट्रीय हिन्दी रक्षक मंच ने भोपाल के वरिष्ठ व नवोदित रचनाकारों का सम्मान उनके घर-द्वार, भोपाल स्थित सिंधु भवन में किया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि राष्ट्रीय हिन्दी रक्षक मंच के संस्थापक व सम्पादक पवन मकवाना एवं विशेष अतिथि प्रधान सम्पादक श्रीमती डॉ.दीपमाला गुप्ता थीं। माँ सरस्वती के पूजन के पश्चात कार्यक्रम का शुभारम्भ नवोदित रचनाकार कवयित्री सुश्री अंकिता सौंधिया ने सरस्वती वंदना गाकर किया, तत्पश्चात राष्ट्रीय हिन्दी रक्षक मंच भोपाल के सदस्यों ने अतिथियों का स्वागत व अभिनन्दन किया। कार्यक्रम की शुरुआत कवि सम्मेलन से हुई उपस्थित वरिष्ठ साहित्यकार व विचित्र हारमोनियम वादक श्री प्रेमनारायण राव, युवा नवीन रचनाकार योगेश पंथी, कु अंकिता सौंधिया ने अपनी रचनाएं सुनाकर श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया। कवि सम्मेलन के पश्चात भोपाल निवासी वरिष्ठ साहित्यकार श्रीमती मनोरमा पंत, श्री सुभाष स्प्रे, श्री विवेक सवारिकर (उप रजिस्ट्रार माखनलाल चतुर्वेदी विश्व विद्यालय भोपाल), श्री सतीशचंद्र श्रीवास्तव, श्री प्रेमनारायण राव, श्री विमल राव, श्री अन्नू अष्ठाना, श्री योगेश पंथी व सुश्री अंकिता सौंधिया का सम्मान साहित्यकार का सम्मान साहित्यकार के घर-द्वार अभियान के अंतर्गत किया गया। कार्यक्रम में कोविड १९ के नियमो का पूर्ण रुप से पालन किया गया व सभी नें अपनें दिनचर्या में मास्क सेनेटाईजर व सामाजिक दुरी बनाये रखने का व वर्ष भर पालन करने का संकल्प लिया। कार्यक्रम का संचालन नरेन्द्र राव ने किया व आभार शिवम शुक्ला ने माना।



« PREV
NEXT »

No comments