BREAKING NEWS
latest

मन पर जीत हासिल करके,सफलता को जीत सकते है - आनंदश्री


 


  (प्रोफेसर डॉ दिनेश गुप्ता- आनंदश्री,आध्यात्मिक व्याख्याता एवं माइन्डसेट गुरु मुम्बई)  

 किसी भी कार्य की शुरुवात में यदि आपको अपने मन में फुसफुसाहट सुनाई देती है, तो आपको आश्चर्य नहीं होगा, वह कहेगा कि आपके पास मौका नहीं है। 

 कोरोना की इस घड़ी में आपके साथ बहुत कुछ नुकसान हो चुका होगा, शायद आपकी शादी मुश्किल में है,   मेरे बच्चे सही पढ़ाई  नहीं कर रहे है ,  व्यवसाय अच्छा नहीं चल रहा है,   तबियत ख़राब चल रही है,  उत्साह समाप्त हो गया है।

आपको विश्वास नही हो रहा है कि " इन सब के बावजूद यह दिन  एक अच्छा दिन होगा ? जब सब कुछ नकारात्मक और  गड़बड़ हो रहा है ? ”

 अच्छे दिन और एक अच्छे वक्त पर विश्वास करना होगा।  आपको विश्वास करना शुरू करना होगा कि अच्छी चीजें आपके रास्ते में आ रही हैं, और वे आकर रहेगी।

 आप जीवन में क्या उम्मीद कर रहे हैं?  क्या आप अच्छी चीजों या बुरी चीजों, महत्व या औसत दर्जे की उम्मीद कर रहे हैं?  क्या आप चीजों को अपने पक्ष में बदलने की उम्मीद कर रहे हैं?  क्या आप भगवान की अच्छाई का अनुभव करने की उम्मीद कर रहे हैं?  या आप अपनी परिस्थितियों या भावनाओं को जीवन के लिए अपने उत्साह को सुस्त करने और मन के नकारात्मक चौकट या फ्रेम में कैद करने की अनुमति दे रहे हैं?


 अपने ही बनाये हुए विचारो के जेल से बाहर आ जाओ

अपने ही विचारो की जेल में लंबे समय तक सजा काट रहे पुरुषों और महिलाओं में से एक आम नारा है " कभी अच्छा नही होगा।"  यह एक दु: खद, निराशाजनक बयान है, जिसमें वे कम उम्मीद के कैदियों को लूटते हैं।  “आपको कोई आय नहीं हुई;  आपके बच्चे यह कहते हुए शर्मिंदा हैं कि वे आपसे संबंधित हैं;  आपकी पत्नी आपको देखने नहीं आ रही है और संभवत: बहुत पहले ही आपको छोड़ देगी;  आपके जीवन में कुछ भी बदलने वाला नहीं है।  कुछ भी बेहतर होने की उम्मीद न करें।  आपको वह मिल रहा है जिसके आप हकदार हैं।  आपको कुछ नहीं मिला। "

यह सब मन को सकारात्मक तौर पर प्रशिक्षित न करने के कारण हुआ।

 अफसोस की बात यह है कि बहुत से लोग "बाहर की ओर" स्वयं की बनाई जेलों में, स्वयं के बनाए जेलों के पीछे रह रहे हैं, और एक ही प्रकार की सोच के आगे झुक गए हैं।  यह वह सर्वोत्तम है जिसकी आप अपेक्षा कर सकते हैं।  यह किसी भी बेहतर होने वाला नहीं है, इसलिए आप शांत बैठ सकते हैं, चुप रह सकते हैं और इसे सहन कर सकते हैं।

 

यही वक्त है अपने ही बनाये जेल से बाहर आने का, जश्न मनाने का....

 नहीं!  आप उस जेल से बाहर निकल सकते हैं!  दरवाजा खुला है।  आपको बस अपने जीवन में अच्छी चीजों की उम्मीद करना शुरू करना है और एक महान भविष्य के लिए भगवान पर विश्वास करना शुरू करना है।  आपके पास अच्छी चीजें आ रही हैं!  आस्था की आंखें ही  से, आपको अपने "विश्वास की आँखों" के माध्यम से देखना शुरू करना चाहिए और अपने आप को खुश, स्वस्थ और संपूर्ण देखना शुरू करें।  इसका मतलब यह है कि जब आपकी स्थिति धूमिल दिखती है, तब भी जब आप निराश या निराश होने की कोशिश करते हैं, तो आपको प्रार्थना करके खुद को प्रोत्साहित करना चाहिए, "भगवान, मुझे पता है कि आप नियंत्रण में हैं, और यह असंभव लगने के बावजूद, मुझे पता है कि आज हो सकता है  जिस दिन चीजें बदल जाती हैं।  आज वह दिन हो सकता है जब आप मेरी शादी  को खुशहाल करेंगे।  यह वह दिन हो सकता है जब आप मेरे बच्चे को घर लाएँगे।  आज वह दिन हो सकता है जब मेरा व्यवसाय तेजी से समृद्ध होने लगेगा।  यह वह दिन हो सकता है जब मैं अपना चमत्कार देखूंगा। ”

 तब विश्वास रखो और अपने जीवन में आने के लिए उन अच्छी चीजों को देखना।  आपको एक सचेत निर्णय लेना चाहिए, अपनी इच्छा का एक अधिनियम, नया सकारात्मक दृष्टिकोण को बनाए रखने के लिए और अपने मन को आशा के विचारों से भरा रखना चाहिए।

 यह वह दिन हो सकता है जब आप  चमत्कार अपने मन को सही दिशा देकर चमत्कार देखेंगे। क्योंकि मन के जीते जीत है और मन के हारे हार।


« PREV
NEXT »

No comments