BREAKING NEWS
latest

म.प्र.कॉंग्रेस के प्रदेशसचिव राकेश सिंह यादव ने आरोप लगाया हैं की डीएवीवी में महिला प्रोफ़ेसर एंव छात्राएँ असुरक्षित हैं....



“डीएवीवी प्रोफ़ेसरों की अय्याशी का अड्डा बना”
—————-
“डीएवीवी के गर्ल्स होस्टल के बाथरूम में लड़की का विडियो बनाने वाले को प्रोफ़ेसरों का वरदहस्त “
———————-
डीएवीवी में अनेक लड़कियों की विडियो बनाकर शोषण करने का खेल सालों से जारी अनेक प्रोफ़ेसर शामिल”
——————-
“डीएवीवी का गेस्ट हाउस अय्याशी का अड्डा”
—————-
डीएवीवी में सूत्रों के अनुसार अभी तक 500 अश्लील विडियो बनाये गये हैं,अनेक लड़कियों को शिकार बनाया गया हैं”
————————
डीएवीवी के प्रोफ़ेसर ही जब महिला प्रोफ़ेसरों का शोषण कर रहे हैं को छात्राओं की दूर्दशा होना आश्चर्य का विषय नहीं “
——————
“गेस्ट फ़ैकल्टी का पुलिस वेरिफ़िकेशन ही नहीं हैं न चरित्र प्रमाणपत्र हैं”


INDORE: म.प्र.कॉंग्रेस के प्रदेशसचिव राकेश सिंह यादव ने आरोप लगाया हैं की डीएवीवी में महिला प्रोफ़ेसर एंव छात्राएँ असुरक्षित हैं।

  डीएवीवी को अनेक प्रोफ़ेसरों ने अय्याशी का अड्डा बना दिया हैं।आज का गर्ल्स होस्टल में छात्रा का नहाते हुए विडियो बनाना ये साबित करता हैं की डीएवीवी के अनेक प्रोफ़ेसरों की शह पर ये विडियो बनाएँ जाते रहे हैं ।इन विडियो का उपयोग छात्राओं को ब्लेकमेल करने के लिए किया जाता हैं।आज रंगेहाथो पकड़ाने के पूर्व सूत्रों के अनुसार लगभग 500 विडियो क्लिप इस तरह से छात्राओं की बनाई गयी हैं।

 डीएवीवी के लिए यह अत्यंत शर्मनाक हैं की एक ओर माता पिता को छात्राओं के होस्टल में जाने नहीं दिया जाता हैं वहीं दूसरी तरफ़ पुरूष गार्ड और पुरूष सफ़ाई कर्मी छात्राओं के बाथरूम में नहाते हुए विडियो बनाने की अनुमति कुलपति ने प्रदान कर रखी हैं।गार्डों एवं सफ़ाईकर्मीयो का पुलिस वेरिफ़िकेशन भी नहीं हैं।इस मामले में ज़िम्मेदार के ख़िलाफ़ एफ़आइआर दर्ज होना चाहिए ।ये तथ्य ही साबित करता हैं की ये एक विडियो नहीं हैं इसके पेहले भी अनेक छात्राओं के विडियो बनाकर ब्लैकमेल किया गया होगा।निश्चित तौर पर एक बड़ा रैकेट हैं जिसमें डीएवीवी को अय्याशी का अड्डा बना दिया हैं।

  कुलपति असहाय हैं क्योंकि डीएवीवी के एक प्रोफ़ेसर ने महिला प्रोफ़ेसर का शोषण किया गया तब भी इस प्रोफ़ेसर पर कार्यवाही नहीं की सिर्फ़ जॉंच की नौटंकी कर रही हैं।इससे सिद्ध होता हैं की डीएवीवी महिलाओ एंव छात्राओं के लिए असुरक्षित हैं।
  इस संदर्भ में उच्चस्तरीय जॉंच की आवश्यकता हैं जिससे इस विडियो क्लिप कॉंड के असली अपराधियों को सजा मिल सके।
   एसएसपी को पत्र लिखकर मॉंग की गई हैं की इस गंभीर मामले की जॉंच क्राइम ब्रॉंच के माध्यम से कराके दोषियों के ख़िलाफ़ कड़ी कार्यवाही करे।

« PREV
NEXT »

No comments