BREAKING NEWS
latest

आचार्यश्री ऋषभचन्द्रसूरीश्वरजी म.सा. ने धर्मसभा में कहा इच्छाओं का कोई पार नहीं, इच्छाऐं अनन्त है


 राजगढ़ (धार) । आचार्यश्री ऋषभचन्द्रसूरीश्वरजी म.सा. ने धर्मसभा में कहा कि जीवन में हर व्यक्ति शांति की तलाश में भटकता है, व्यक्ति को शांति कब और कहा मिलेगी यह भी वह जानता है फिर भी वह उससे अनजान बना बैठा है । जीवन में शांति बनाये रखने के लिये अपनी इच्छाओं पर अंकुश लगाना पड़ता है । इच्छाऐं आकाश की भांति अनन्त है, उनका कोई पार नहीं है । जबतक व्यक्ति अपने आप में इच्छाओं के प्रति संतुष्ट नहीं हो जाता है तबतक वह शांति की तलाश में परेशान होता रहता है । जबतक हमारी इच्छाऐं पूर्ण नहीं होती हम दूसरों पर गुस्सा उतारने के लिये हमेशा तैयार खड़े रहते है । आचार्यश्री ने श्री मोहनखेड़ा महातीर्थ में संचालित होने वाली समस्त स्कूली संस्थाओं के बच्चों को कहा कि हमारे जीवन में पढ़ाई महत्वपूर्ण होना चाहिये । यह पढ़ाई ही हमें मान सम्मान दिलाती है और इसी के माध्यम से हम अपने माता-पिता, दादा-दादी व संस्था का नाम रोशन कर सकते है । व्यक्ति सुख और दुख में अपने लक्ष्य और ध्येय को कभी नहीं छोड़े । जो व्यक्ति दुख के समय में अपने लक्ष्य से भटक जाते है । वह कभी अपनी मंजिल को नहीं पा सकते है और सुख और दुख में समभाव में रहकर जीवन जीते है वही अपनी मंजिल को प्राप्त कर लेते है ।






गुरुवार को गुरु राजेन्द्र इन्टरनेशनल स्कूल प्रांगण में श्री मोहनखेड़ा महातीर्थ की समस्त शिक्षण संस्थाओं के 2000 से अधिक बच्चों, समाजजनों एवं गुरुभक्तों ने आचार्यश्री की अगवानी की । दादा गुरुदेव की पाट परम्परा के अष्टम पट्टधर श्री मोहनखेड़ा तीर्थ विकास प्रेरक वर्तमान गच्छाधिपति आचार्यदेवेश श्रीमद्विजय ऋषभचन्द्रसूरीश्वरजी म.सा., मुनिराज श्री जिनचन्द्रविजयजी म.सा., मुनिराज श्री जीतचन्द्रविजयजी म.सा., मुनिराज श्री जनकचन्द्रविजयजी म.सा. एवं साध्वी श्री किरणप्रभाश्री जी म.सा., साध्वी श्री सद्गुणाश्री जी म.सा., साध्वी श्री संघवणश्री जी म.सा. आदि ठाणा का मंगलमय प्रवेश श्री मोहनखेड़ा महातीर्थ की पावन पुण्यधरा पर हुआ । इससे पूर्व आचार्यश्री ने राजगढ़ नगर से विहार करते हुये स्थानीय तलहटी पर दर्शन वंदन किये । यहां से विहार कर इन्टरनेशनल स्कूल पहुंचे जहां स्कूल व निर्माणाधीन होस्टल का अवलोकन किया ।
कार्यक्रम में श्री आदिनाथ राजेन्द्र जैन श्वे. पेढ़ी ट्रस्ट की और से मेनेजिंग ट्रस्टी सुजानमल सेठ, ट्रस्टी संजय सराफ, संतोष चत्तर, प्रो. आर.के. जैन, दिलीप नाहर, दिलीप भण्डारी, नरेन्द्र भण्डारी, राजेश भण्डारी, महाप्रबंधक अर्जुनप्रसाद मेहता, सहप्रबंधक प्रीतेश जैन सहित राजगढ़ नगर के कई वरिष्ठ समाजसेवी उपस्थित थे ।

« PREV
NEXT »

No comments