BREAKING NEWS
latest

मंदिरों का जिर्णोद्धार तो हो गया है समाज का जिर्णोद्धार बाकी है: आचार्य ऋषभचन्द्र सुरिष्वर मसा....

 

  खाचरौद:- नमोः अरिहन्ताणम् शब्द स्वंय में 1070 तीर्थंकर परमात्माओं को नमन करने के बराबर है। जज के रिटायर्ट होने की उम्र होती है पर वकील कभी पूराना नहीं होता और वो कभी रिटायर्ट भी नहीं होता। समाज के फैसले करने वाले की उम्र हो जाती है, पर दलील करने वालों की उम्र नहीं होती । मरीज डाॅक्टर को भगवान मानकर अपना सबकुछ अर्पित कर देता है, पर गुरू यदि कुछ कह दें लोग मानने को तैयार नहीं होते और नए-नए बहाने बाजी करने लग जाते है। डाॅक्टर कह दें तो सब बात मान ली जाती है, हमारा शरीर एक माध्यम है, पर हम इसका जतन जरूरत से ज्यादा कर लेते है। गुरू कहते है कि आत्मा का जतन करों उसके के लिए व्यक्ति के पास समय नहीं है, का स्थाई बहाना है। व्यक्ति भय के चलते नियमों का पालन करता है, इंसान कोर्ट की तारीख नहीं चुकता है, पर धार्मिक कार्यक्रमों में कभी भी समय से नहीं पहुंचता है। खाचरौद के मंदिरो का जिर्णोद्धार तो हो चुका है, अब समाज के जिर्णोद्धार की आवष्यकता है ।

  खाचरौद नगर के गोपाल मंदिर से गुरूवार प्रातः 9 बजे एक विषाल जुलुस के साथ आचार्यश्री व साधु-साध्वी भगवंतो का चल समारोह नगर के प्रमुख मार्गो से होता हुआ भटेवरा जैन मंदिर धर्मसभा के लिए पहुंचा। नगर में आचार्यश्री को जगह-जगह अक्षत गवली से अगवानी की गई । जुलुस में महिलाएं मस्तक पर कलष धारण कर चल रही थी साथ ही घोडा बग्घी में सप्त्म पट्धर आचार्य देवेष श्रीमद् विजय रवीन्द्रसुरिष्वर मसा की चल प्रतिष्ठा होने वाली प्रतिमा भी थी । प्रवचन के पष्चात आचार्यश्री ने विषिष्ट मंत्रौच्चार के साथ आचार्य श्री रवीन्द्रसुरिष्वर मसा, यक्ष देव व महालक्ष्मी की प्रतिमा की प्रतिष्ठा की । भटेवरा जैन समाज की और से आचार्यश्री को चरण पूजा कर कामली ओढाई गई।

  प्रतिष्ठा के पष्चात आचार्यश्री समाजजनों के साथ नगर के प्राचीन श्री खेडापति हनुमान मंदिर दर्षन हेतु गयें यहां पर श्री खेडापति ट्रस्ट मण्डल व नगरपालिका अध्यक्ष श्रीमति कमलेष अनिल शर्मा आदि ने आचार्यश्री कामली ओढाई । आचार्यश्री ने निर्माणाधिन मंदिर परिसर का अवलोकन कर ट्रस्ट के पदाधिकारियों को मंदिर निर्माण के दिषा निर्देष प्रदान किए ।

  प्रतिमा के यह रहे लाभार्थी:- सप्त्म पट्धर आचार्य देवेष श्रीमद् विजय रवीन्द्रसुरिष्वर मसा की प्रतिमा के लाभार्थी अनिल कुमार शांतिलाल भटेवरा, गौमुखयक्ष की प्रतिमा जितेन्द्रकुमार बसन्तीलाल भटेवरा व महालक्ष्मी जी की प्रतिमा सूर्यपाल भटेवरा परिवार के द्वारा स्थापित की गई। प्रतिमा स्थापना के पष्चात महालक्ष्मी की आरती सुभाष शांतिलाल भटेवरा परिवार व दादा गुरूदेव की आरती अनिल कुमार घेंवरमल नागदा परिवार द्वारा उतारी गई।






           


« PREV
NEXT »

No comments